Top
Home > Archived > अमर सिंह ने कहा - अखिलेश पहले पिता को सम्मान दें, फिर निकाय चुनाव की रणनीति बनाएं

अमर सिंह ने कहा - अखिलेश पहले पिता को सम्मान दें, फिर निकाय चुनाव की रणनीति बनाएं

अमर सिंह ने कहा - अखिलेश पहले पिता को सम्मान दें, फिर निकाय चुनाव की रणनीति बनाएं

वाराणसी। अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले सांसद अमर सिंह ने शनिवार को समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर जमकर तंज कसा।

शहर में आयोजित एक समारोह में भाग लेने आये अमर सिंह ने कहा कि अखिलेश पहले अपने पिता को सम्मान दें। उसके बाद निकाय चुनाव की रणनीति बनाएं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जमकर तारीफ कर कहा कि मोदी के टक्कर में टॉप टेन में कोई नेता नहीं है।

अमर सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस समय देश में मोदी के कद के बराबर का कोई नेता नहीं है। मोदी को न तो कोई बड़ी जीत प्रभावित कर सकती है और न छोटी हार से वो विचलित होते हैं। भाजपा के घटक दल शिवसेना प्रवक्ता के बयान ‘मोदी लहर राहुल गांधी के आगे कमजोर’ पर कहा कि मुझे समझ नहीं आता की मेरे मित्र उद्धव ठाकरे इस मंत्रिमंडल में क्यो हैं। उन्हें कांग्रेस की सदस्यता लेनी चाहिए। साथ ही शिवसेना का विलय कांग्रेस में करा देना चाहिए। लेकिन अगर वह चाहें भी तो कांग्रेस में शिवसेना का विलय नहीं हो सकता। यहां मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति आड़े आ जाएगी। मेरा मत है कि इस तरह के बयानों से बचना चाहिए।

एक अन्य सवाल के जबाब में कहा कि मुसलमान आतंकी नहीं होते, लेकिन दुर्भाग्य है कि जो आतंकी पकड़े जाते हैं वो मुसलमान होते हैं। 8 नवम्बर को नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर बिहार में राजद के काला दिवस मनाने के सवाल पर कहा कि उनका सारा काला धन ख़त्म हो गया। उन्हें काला दिवस मनाना चाहिए। अब राजद मुखिया अपने बच्चों के लिए महल और कोठियां नहीं बनवा पाएंगे। इसलिए शोकाकुल लालू परिवार को शोक दिवस भी मनाना चाहिए।

गुजरात चुनाव में हार्दिक पटेल के प्रभाव से जुड़े सवाल पर कहा कि हार्दिक पटेल से पहले पटेलों की एक बड़ी बैसाखी केशु भाई पटेल ने भी वहां खड़ी की थी। तब भी केशु भाई मोदी के खिलाफ कुछ नहीं कर पाए तो लड़के बेचारे क्या कर पाएंगे।

Updated : 2017-10-28T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top