Top
Home > Archived > हमसफर एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में खुली लूट, 100 रुपए देने के बाद भी यात्री को मिला बेस्वाद खाना

हमसफर एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में खुली लूट, 100 रुपए देने के बाद भी यात्री को मिला बेस्वाद खाना

हमसफर एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में खुली लूट, 100 रुपए देने के बाद भी यात्री को मिला बेस्वाद खाना

दोगुने दाम में मिल रही है आधी थाली

ग्वालियर/स्वदेश डिजिटल। ट्रेनों में यात्रियों से मुंह मांगे पैसे लेने के बाद भी पेंट्रीकार से उनको घटिया खाना परोसा जा रहा है। गंदगी के बीच खाना पकाया जा रहा है। ताजा खाना देने की वजाय यात्रियों को बासा खाना खिलाया जा रहा है। निजामुद्दीन से चल कर दुर्ग की ओर जाने वाली हमसफर एक्सप्रेस में खाने के नाम पर जमकर लूट हो रही है। पेंट्रीकार में जिस खाने का मूल्य रेलवे ने 50 और 55 रुपए तय कर रखा है, उसके 100 और 110 रुपए तक वसूल किए जा रहे हैं। यही नहीं थाली का मैन्यू भी पूरा नहीं दिया जा रहा। शनिवार को ग्वालियर निवासी केशव पाठक अपने भाई के साथ हमसफर एक्सप्रेस के कोच एस-5 में ग्वालियर से रायपुर की यात्रा कर रहे थे। उन्होंने ललितपुर के पास पेंट्रीकार में जाकर वेज थाली मांगी तो वेंडर ने उन्हें वेज थाली देते हुए 100 रुपए ले लिए। जब उन्होंने कहा कि खाना तो 50 रुपए का आता है तो वेंडर ने कहा कि यह पीआईपी खाना है, इसलिए यह 100 रुपए का ही आएगा।

पनीर की सब्जी में सिर्फ पानी ही पानी

यात्री केशव पाठक ने बताया कि वेज थाली के नाम पर पेंट्रीकार के वेंडर खुली लूट मचा रहे हैं। पनीर की सब्जी में न तो नमक था और न ही मिर्च, सब्जी में सिर्फ उबली मटर व पनीर के चार टुकड़े नजर आ रहे थे।

टीटीई को ढूंढ़ते रहे शिकायत करने के लिए

ग्वालियर से यात्रा कर रहे केशव पाठक ने बताया कि उनके कोच में गंदगी पड़ी हुई थी। इसकी शिकायत के लिए वह ललितपुर तक टीटीई को ढूंढ़ते रहे, लेकिन टीटीई नहीं मिला। उन्होंने बताया कि वह घटिया खाने की शिकायत भी टीटीई से करना चाहते थे।

जांच के नाम पर हो रही है खानापूर्ति

ट्रेनों की पेंट्रीकारों में जहां रेलवे सेम्पलिंग की कार्रवाई कर रहा है वहीं पेंट्रीकार के संचालक यात्रियों को बेस्वाद खाना परोस रहे हैं। रेलवे के अधिकारी सिर्फ दिखाने के लिए सेम्पलिंग कर रहे हैं, ताकि वरिष्ठ अधिकारियों को बताया जा सके कि यहां पेंट्रीकारों की जांच हो रही है।

Updated : 2017-10-01T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top