Top
Home > Archived > केडी हॉस्पिटल में ऑपरेशन से बच्चे का मलद्वार बनाया

केडी हॉस्पिटल में ऑपरेशन से बच्चे का मलद्वार बनाया

मथुरा। केडी मेडिकल कालेज हॉस्पिटल और रिसर्च सेंटर के पीडियाट्रिक सर्जन (बच्चों के सर्जन) डा. श्याम बिहारी शर्मा ने कोई तीन घंटे के अथक प्रयासों के बाद हर्शप्रंग-डिजीज से पीडि़त इगलास, अलीगढ़ निवासी चंद्रप्रकाश के तीन साल के पुत्र सौरभ का ऑपरेशन द्वारा मलद्वार बनाने में सफलता हासिल की।

पड़ौसी जनपद अलीगढ़ निवासी चंद्रप्रकाश के तीन साल का पुत्र सौरभ जन्म से ही हर्शप्रंग-डिजीज से पीडि़त था। बेटे के उपचार के लिए सितम्बर महीने में चंद्रप्रकाश आगरा के एक निजी अस्पताल गये, जहां सौरभ का पहला ऑपरेशन किया गया। इस ऑपरेशन के कुछ महीने बाद चंद्रप्रकाश अपने बच्चे को जेकलोन अस्पताल जयपुर ले गये, वहां के डाक्टरों ने चंद्रप्रकाश को बताया कि वे बच्चे को के.डी. हास्पिटल के पीडियाट्रिक सर्जन डा. श्याम बिहारी शर्मा के पास ले जाएं क्योंकि उन्हें इस तरह के आपरेशन करने में महारत हासिल है। आखिरकार चंद्रप्रकाश 16 जनवरी सोमवार को बच्चे को लेकर डा. श्याम बिहारी शर्मा से मिले। डा. शर्मा ने बच्चे की विभिन्न जांचें कराने के बाद 19 जनवरी को उसके ऑपरेशन का निर्णय लिया।

डा. शर्मा का कहना है कि हर्शप्रंग-डिजीज एक जन्मजात रोग है, जिसमें बड़ी आंत की क्रियाशीलता बहुत कम हो जाती है और बच्चा पांच-छह दिन तक मल त्याग नहीं करता। उसका पेट फूल जाता है तथा शारीरिक विकास अवरुद्ध हो जाता है। कुछ दिनों तक दवा देने से मल त्याग (मलोत्सर्जन) करने लग जाता है पर अंत में शल्यक्रिया ही इसका एकमात्र विकल्प है। शल्यक्रिया दो स्टेज में की जाती है। कभी-कभी इसे तीन स्टेज में भी करना पड़ता है।

डा. शर्मा बताते हैं कि के.डी. मेडिकल कालेज में सौरभ का ऑपरेशन दूसरी स्टेज में किया गया। इसमें आंत का वह हिस्सा जो क्रियाशील रहता है उसे नीचे लाकर गुदा द्वार से जोड़ा जाता है। सौरभ के ऑपरेशन में कोई तीन घण्टे लगे और ऑपरेशन सफल रहा। इस आपरेशन में पीडियाट्रिक सर्जन डा. श्याम बिहारी शर्मा को सर्जन डा. के.के. गुप्ता, निश्चेतना विशेषज्ञ डा. मंजू सक्सेना और टेक्नीशियन योगेश कुमार आदि का सहयोग मिला। बच्चा अब स्वस्थ है और उसकी आईसीयू में देखरेख हो रही है। चंद्रप्रकाश ने सफल ऑपरेशन के लिए डाक्टरों का आभार मानते हुए कहा कि यदि यहां नि:शुल्क ऑपरेशन न होता तो मेरा बेटा सही नहीं हो पाता।

आरके एजूकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल, प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल और कालेज की प्राचार्य डा. मंजुला बाई केएच ने बच्चे के सफल ऑपरेशन के लिए डाक्टरों की टीम को बधाई देते हुए सौरभ की उचित देखभाल के निर्देश दिए हैं। कालेज की प्राचार्य डा. मंजुला बाई का कहना है कि चूंकि ब्रज मण्डल में बच्चों के सर्जन बहुत कम हैं लिहाजा केडी हॉस्पिटल के विशेषज्ञ सर्जन डा. श्याम बिहारी शर्मा के अनुभव का लाभ लोगों को अवश्य उठाना चाहिए।

Updated : 2017-01-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top