Top
Home > Archived > अमेरिका ने भारत-पाक से की तनाव कम करने की अपील

अमेरिका ने भारत-पाक से की तनाव कम करने की अपील

अमेरिका ने भारत-पाक से की तनाव कम करने की अपील

वाशिंगटन | पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र द्वारा सूचीबद्ध आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने का कड़ा संदेश देते हुए व्हाइट हाउस ने भारत एवं पाकिस्तान के बीच तनाव कम किए जाने की अपील की।

व्हाहट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, मैं आपको यह बता सकता हूं कि हमने क्षेत्र से मिली कुछ रिपोर्ट देखी हैं। इन रिपोर्टों में यह रिपोर्ट भी शामिल है कि भारत एवं पाकिस्तान की सेनाएं एक दूसरे के संपर्क में हैं और हम तनाव कम करने के लिए भारत एवं पाकिस्तान के बीच जारी वार्ता को प्रोत्साहित करते हैं।

अर्नेस्ट ने कहा कि अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुसान राइस ने कल अपने भारतीय समकक्ष अजित डोभाल से बात की और कहा कि अमेरिका चाहता है कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए लश्कर ए तैयबा एवं जैश ए मोहम्मद समेत आतंकवादी संगठनों से निपटे और उनकी वैधता खत्म करे।

उन्होंने कहा, राजदूत सुसान ने यह स्पष्ट किया कि अमेरिका क्षेत्र में सीमा पार से आतंकवाद के खतरे को लेकर चिंतित है। अमेरिका पूरी उम्मीद करता है कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र द्वारा सूचीबद्ध आतंकवादियों एवं आतंकवादी संगठनों से निपटने एवं उन्हें अवैध घोषित करने के लिए प्रभावशाली कार्रवाई करेगा।

अर्नेस्ट ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ साझेदारी और आतंकवाद से निपटने के उनके साझे प्रयासों को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध है और संयुक्त राष्ट्र द्वारा सूचीबद्ध आतंकवादी समूहों से निपटने के लिए सहयोग को और गहरा करने के लिए तैयार हैं।

प्रेस सचिव ने कहा कि साथ ही, अमेरिका पाकिस्तान के साथ निकट संपर्क बनाए हुए हैं और सुरक्षा समेत विभिन्न मुद्दों पर उन्होंने जो महत्वपूर्ण साझेदारी की है, उसकी महत्ता को समझता है। इस बीच विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने तनाव कम करने की अपील की। अधिकारी ने कहा, हम दोनों ओर शांति एवं संयम की अपील करते हैं।

उन्होंने कहा, हम समझते हैं कि भारत एवं पाकिस्तान की सेनाएं संपर्क में रही हैं और हमारा मानना है कि तनाव कम करने के लिए जारी संवाद आवश्यक है।
अमेरिका ने उरी में हालिया हमले समेत सीमा पार की आतंकवादी गतिविधियों से क्षेत्र को पैदा हो रहे खतरे पर अपनी चिंता बार बार व्यक्त की है।

अधिकारी ने कहा, हम लश्कर ए तैयबा, हक्कानी नेटवर्क एवं जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकवादी समूहों से निपटने एवं उनकी वैधता समाप्त करने के लिए कदम उठाने की अपील करते हैं।

भारत ने उरी हमले के लिए पाकिस्तान स्थित आंतकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को दोषी ठहराया है। उरी आतंकी हमले के बाद बढ़े तनाव की पृष्ठभूमि में भारत ने सीमा पार से बढ़ते आतंकी हमलों का हवाला देते हुये दक्षेस शिखर सम्मेलन में शामिल नहीं होने की भी मंगलवार को घोषणा की थी।

इसके अलावा भारत ने पाकिस्तान स्थित एक अन्य आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा पर वर्ष 2001 में हुए संसद हमले और 2008 में हुए मुंबई हमलों समेत भारतीय सेना और नागरिकों को निशाना बनाने के आरोप लगाये हैं।

वर्ष 2008 में हुये मुंबई आतंकी हमलों में भूमिका के लिए लश्कर-ए-तैयबा के सह संस्थापक एवं जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर एक करोड़ डॉलर का ईनाम घोषित किया गया है। इन हमलों में 166 लोगों की मौत हो गयी थी, जिसमें छह अमेरिकी नागरिक भी शामिल थे।

Updated : 2016-09-30T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top