Top
Home > Archived > सार्क सम्मेलन में नवाज ने आतंकवाद को बताया चुनौती

सार्क सम्मेलन में नवाज ने आतंकवाद को बताया चुनौती

सार्क सम्मेलन में नवाज ने आतंकवाद को बताया चुनौती

सार्क सम्मेलन में नवाज ने आतंकवाद को बताया चुनौती

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के इस्लामाबाद में शुरू हुई दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) देशों के गृहमंत्रियों की बैठक में पाकिस्तान प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि कई चुनौतियों के बावजूद, सार्क ने दक्षिण एशिया में ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रीय एकीकरण को बढ़ावा देने में सराहनीय योगदान दिया है।

आतंकवाद को एक चुनौती बताते हुए नवाज शरीफ ने कहा कि 'पाकिस्तान आतंकवाद और संगठित अपराधों को जड़ से खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद सिर्फ पाकिस्तान की नहीं पूरी दुनिया के लिए समस्या बन गया है। इसलिए संगठित अपराध और आतंकवाद के खतरे को रोकने के लिए एकजुट होकर इस चुनौती का सामना करने की जरूरत है। इस मौके पर उन्होंने बताया कि पाकिस्तान में ऑपरेशन जर्बे-अज्ब से आतंकवाद के खिलाफ बड़ी कामयाबी हासिल हुई है।

पाकिस्तान के गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान ने कहा है कि सार्क की प्रक्रिया और इच्छाओं को पूरा करने के लिए पाकिस्तान प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर इसमें देशों को देखना चाहिए कि हमने अब तक क्या किया है और हमें क्या करने की जरूरत है। इस महत्वपूर्ण बैठक में सभी देश मिलकर भविष्य की अपनी रणनीति बनाएंगे।

इस सम्मेलन में भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं। राजनाथ सम्मेलन में हिस्सा तो लेंगे, लेकिन पाकिस्तान के गृह मंत्री से द्विपक्षीय मुलाकात नहीं करेंगे। पाकिस्तान रवाना होने से पहले राजनाथ सिंह ने कहा था कि यह सम्मेलन सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा के लिए एक महत्वपूर्ण मंच है। उन्होंने यह भी कहा था कि वह आतंकवाद और संगठित अपराध के खिलाफ इस क्षेत्र के भीतर सार्थक सहयोग की अनिवार्यता को रेखांकित किए जाने की उम्मीद कर रहे हैं।

वहीं उनके पाकिस्तान पहुंचने से पहले वहां विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकी संगठनों की ओर से मिली धमकियों के बाद उन्हें कड़ी सुरक्षा दी गई है। होटल की तरफ जाने वाले मार्गों पर पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा अवरोधक लगाए गए हैं।

Updated : 2016-08-04T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top