Top
Home > Archived > बसपा का दोहरा चरित्र

बसपा का दोहरा चरित्र

बसपा का दोहरा चरित्र

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती पर भाजपा नेता (अब हटाए गए) दयाशंकर सिंह की टिप्पणी ने हर किसी को आहत किया, इसने मायावती ही नहीं हर महिला के सम्मान को ठेस पहुंचाई, भाजपा ने भी इस मामले में बगैर देर किए दयाशंकर सिंह को पार्टी से बाहर कर दिया। इस घटना में भाजपा ने राजनीति के उच्च आदर्शों को न सिर्फ कायम रखा, बल्कि भाजपा का यह कदम उन सभी राजनैतिक दलों के लिए भी एक संदेश है कि नारी सम्मान के मामले में वो भी राजनीति के मूल्यों व आदर्शों को आचरण और व्यवहार में लाएं, लेकिन इस मामले को राजनैतिक रंग देने और इसे चुनावी मुद्दे के रूप में भुनाने की कोशिशों में कोई कसर नहीं छोड़ी। लखनऊ के हजरतगंज चौराहे पर अभद्र टिप्पणी के विरोध में जो हुआ उसने बसपा के चरित्र को सामने ला दिया। बसपा के प्रदर्शन के दौरान मंच से दयाशंकर सिंह के खिलाफ खुलकर गालियों की बौछार की। इस दौरान बसपा कार्यकर्ताओं ने दयाशंकर और उनके परिवार की बहन बेटियों के लिए भी अश्लील भाषा का इस्तेमाल किया। भाजपा ने इस मामले में जिस नैतिकता का परिचय दिया, इसके ठीक विपरीत गालियों का इस्तेमाल किया। भाजपा ने इस मामले में जिस तरह दयाशंकर सिंह के खिलाफ कार्रवाई की, बेहतर होता बसपा भी भाजपा की कार्रवाई का मान रखती। हिंसा के बदले हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं है। लेकिन बसपा ने इस मुद्दे को चुनावी हथियार बनाने की कोशिश कर यह साबित कर दिया कि उसका लोकतांत्रिक मूल्यों में कोई विश्वास नहीं है। भाजपा के चरित्र पर उंगली उठाने वाली बसपा ने दयाशंकर सिंह के परिवार की महिलाओं के बारे में जिस तरह की आपत्तिजनक बातें कहीं उससे तो उसने खुद अपने महिला विरोधी होने का परिचय दे दिया। संसद में बसपा प्रमुख यह कहकर भी इठलाईं कि अगर भाजपा दयाशंकर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराती तो वो उनका दिल जीत लेती। दयाशंकर सिंह ने जो कहा उसे किसी भी स्थिति में उचित नहीं ठहराया जा सकता। लेकिन इसके जवाब में बसपा ने जो किया वो और भी अधिक शर्मनाक है। बसपा ने दयाशंकर की टिप्पणी के विरोध में जगह-जगह धरने-प्रदर्शन किए और रैलियां निकालीं। इन विरोध कार्रवाइयों में बसपा ने जिस तरह बगैर किसी कारण वाहनों की तोडफ़ोड़ की और राह चलते लोगोंके साथ मारपीट की, उससे यह स्पष्ट हो गया कि बसपा की लोकतंत्र में कोई आस्था नहीं है। उसका एक ही उद्देश्य है, कैसे सत्ता में आया जाए।

Updated : 2016-07-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top