Top
Home > Archived > अभिभाषकों के नए पैनल में आधे पुराने

अभिभाषकों के नए पैनल में आधे पुराने

अभिभाषकों के नए पैनल में आधे पुराने

न्यायालय में निगम का पक्ष रखने अभिभाषक नियुक्त

ग्वालियर। उच्च न्यायालय तथा अधीनस्थ न्यायालयों में चल रहे निगम से सम्बन्धित विभिन्न मामलों की पैरवी के लिए अभिभाषकों का नया पैनल घोषित कर दिया गया है। लेकिन इस नए पैनल में लगभग आधे से अधिक अभिभाषक वही हैं जो कि पिछले पैनल में भी थे।
महापौर परिषद की 3 मई 2016 को आयोजित बैठक में किए गए संकल्प क्रमांक 332 के पालन में यह नियुक्तियां की गईं हैं। इसके अनुसार उच्च न्यायालय में निगम की पैरवी के लिए 13 और अधीनस्थ न्यायालयों के लिए 18 अभिभाषकों को चुना गया है। बताया जाता है कि इनमें से कुछ अभिभाषक तो ऐसे हैं जो कि लम्बे समय से निगम के पैनल में अपनी जगह बनाए हुए हैं और अपनी ऊंची पहुंच का उपयोग करते हुए वे इस बार भी पैनल में शामिल हैं।

उच्च न्यायालय में यह करेंगे पैरवी
उच्च न्यायालय मेंं निगम से सम्बन्धित विभिन्न मामलों पैरवी के लिए दो वरिष्ठ अभिभाषक केएन गुप्ता और एनके गुप्ता का चयन किया गया है। जबकि नियमित अभिभाषक पैनल में एसएस बसंल,डीडी बसंल, पीडी बिदुआ, रविन्द्र दीक्षित, नकुल खेड़कर, दीपक खोत, एसएस गौतम, गौरव मिश्रा,डीएस चौहान, अंकुर माहेश्वरी, हरीश दीक्षित, कमल जैन एवं श्रीमती निधि पाटनकर शामिल हैं।

अधीनस्थ न्यायालयों में यह रखेंगे निगम का पक्ष
जागेश्वर सिंह भदौरिया, सुसेन्द्र सिंह परिहार, अरुण वाजपेयी, जवाहरलाल प्रजापति,राकेश राजौरिया, कमल रोचलानी, संजय सिंह कुशवाह, अभय पाटिल, पंकज पालीवाल, राजेश शुक्ला,कुलदीप दुबे, एनडी शर्मा, राजेश गुप्ता, दीपक सक्सेना, अंकित सक्सेना, गोपाल चन्द्र वर्मा,प्रभात सिंह जादौन और श्रीमती उर्मिला फालके शामिल हैं।

Updated : 2016-06-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top