Top
Home > Archived > तरसा कर लौट जाते हैं घने काले बादल

तरसा कर लौट जाते हैं घने काले बादल

इस बार मई में कमजोर रहा प्री-मानसून, जून में भी कम बारिश की आशंका

ग्वालियर। मौसम विभाग के पूर्वानुमान अनुसार मानसून आने में अभी लगभग दो सप्ताह का समय शेष है, लेकिन आने वाले दिनों में होने वाली झमाझम मानसूनी बारिश से पहले शहर प्री-मानसून की राहत भरी फुहारों के लिए तरस रहा है। हालांकि आसमान में कई बार घने काले बादल तो घुमड़ते हैं, लेकिन बरसते नहीं हैं।

इस बार प्री-मानसूनी गतिविधि कमजोर नजर आ रही है। ऐसे में आसमान से चिलचिलाती धूप सभी को झुलसा रही है। मौसम विभाग के अनुसार गुजरे मई में तमिलनाडू में आया रेआनू नामक चक्रवात इस बार की प्री-मानसून गतिविधि पर भारी पड़ गई। तमिलनाडू से बढ़ता हुआ यह चक्रवात जब बंगाल की खाड़ी तक पहुंचा तो ग्वालियर अंचल की ओर आने वाली नमी कमजोर पड़ गई। रोहिणी नक्षत्र (नौतपा) के दिनों में हुई छुटपुट बारिश को छोड़ दें तो पिछले वर्ष की तुलना में इस बार मई और जून के गुजरे 12 दिनों में इस बार प्री-मानसून गतिविधि काफी कमजोर रही। मौसम विभाग की मानें तो जून के शेष दिनों में मानसूनी बारिश भी कम होने की आशंका है क्योंकि मानसून 25 जून से पहले आने की संभावना नहीं है।

दक्षिणी भाग से होते हुए आएगा मानसून
मौसम विभाग के अनुसार इस बार मानूसन 18 से 20 जून के आसपास मध्यप्रदेश के दक्षिणी भाग झाबुआ व अलीराजपुर से प्रवेश करेगा। इसके बाद भोपाल में 22 जून तक और ग्वालियर व चम्बल अंचल में 25 जून तक पहुंचने के आसार हैं, जबकि पूरे प्रदेश में मानसून 28 से 30 जून के तक पहुंचेगा।

तापमान में आई आंशिक कमी
रविवार को सुबह हवा में नमी अधिक होने और दोपहर बाद आसमान में बिखरे हुए बादल छाए रहने के फलस्वरूप आज दिन के तापमान में आंशिक कमी दर्ज की गई, लेकिन उमस के चलते गर्मी फिर भी चरम पर रही। भोपाल के मौसम विज्ञानी उमाशंकर चौकसे ने बताया कि इस समय राजस्थान से बंगाल की खाड़ी तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है, जो ग्वालियर के पास से ही गुजर रही है। साथ ही हवाओं के साथ नमी भी आ रही है, इसलिए ग्वालियर व चम्बल संभाग में अगले 24 घण्टे दौरान बादलों की आवाजाही बनी रहेगी। इस दौरान कुछ क्षेत्रों में धूल भरी आंधी व गरज-चमक के साथ छुटपुट बूंदाबांदी भी हो सकती है।

स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार शहर में गतरोज की तुलना में आज अधिकतम तापमान 1.3 डिग्री गिरावट के साथ 41.6 डिग्री दर्ज किया गया, जो औसत से 0.6 डिग्री अधिक है, जबकि न्यूनतम तापमान 1.8 डिग्री गिरावट के साथ 28.0 डिग्री पर रहा, जो औसत से 0.7 डिग्री कम है। इसी प्रकार सुबह हवा में नमी 58 व शाम को 36 फीसदी दर्ज की गई, जो सामान्य से क्रमश: 12 व 05 फीसदी अधिक है।

पिछले छह वर्षों में प्रमुख चार शहरों में कब आया मानूसन
वर्ष ग्वालियर भोपाल इन्दौर जबलपुर
2010 04 जुलाई 01 जुलाई 16 जून 01 जुलाई
2011 22 जून 22 जून 22 जून 20 जून
2012 05 जुलाई 04 जुलाई 04 जुलाई 21 जून
2013 15 जून 11 जून 10 जून 11 जून
2014 07 जुलाई 07 जुलाई 10 जुलाई 19 जून
2015 25 जून 22 जून 14 जून 23 जून

Updated : 2016-06-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top