Home > Archived > पारा फिर भी 45 डिग्री के करीब, रात में भी चलीं गर्म हवाएं, हो सकती है बारिश

पारा फिर भी 45 डिग्री के करीब, रात में भी चलीं गर्म हवाएं, हो सकती है बारिश

पारा फिर भी 45 डिग्री के करीब, रात में भी चलीं गर्म हवाएं, हो सकती है बारिश
X

तेज हवाओं के साथ हुई बूंदाबांदी

ग्वालियर। शनिवार को मौसम के तीन रूप देखने को मिले। सुबह हल्के-फुल्के बादल थे। दोपहर में आसमान साफ रहा तो सूरज जमकर चमके और गर्म हवाएं चलने से लू का भी असर रहा। इससे पारा 45 डिग्री के करीब पहुंच गया। दोपहर बाद फिर से बादल छा गए। शाम होते-होते कभी धूल भरी आंधी तो कभी तेज हवाएं चलीं। इस दौरान रुक-रुककर छुटपुट बूंदाबांदी भी हुई। बावजूद इसके देर रात तक गर्म हवाएं चलती रहीं। मौसम विभाग ने अगले 24 घण्टे के दौरान भी बादल छाए रहने, धूल भरी आंधी चलते तथा छुटपुट बारिश होने की संभावना जताई है।

उल्लेखनीय है कि पिछले करीब एक पखवाड़े से सूरज आग उगल रहा है और राजस्थान की ओर से चलने वाली गर्म हवाओं ने तीव्र लू की स्थिति निर्मित कर दी है, जिससे पिछले कुछ दिनों से पारा 46 से 47 डिग्री के बीच झूल रहा है। ऐसे में भीषण गर्मी के चलते जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भीषण गर्मी से परेशान लोग अब आसमान की ओर ताक रहे हैं। सभी को अब मानसून का बेसब्री से इंतजार है, ताकि लू मिश्रित गर्मी से राहत मिल सके। ऐसे में आज दोपहर बाद आसमान में जब बादल घुमड़े तो लोगों की उम्मीदें बढ़ गईं, लेकिन बादल उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे और छुटपुट बूंदाबांदी करके शांत हो गए। हालांकि मौसम में आए इस बदलाव से आज तापमान में जरूर आंशिक गिरावट दर्ज की गई।

आंधी आते ही गुल हुई बिजली:- दोपहर बाद जब बादल घुमड़े तो करीब ढाई बजे छुटपुट बूंदाबांदी हुई। इसके बाद मध्यान्ह करीब साढ़े तीन बजे फिर से बूंदाबांदी हुई। इसके बाद धूल भरी आंधी चलती रही और आंधी थमी तो शाम करीब साढ़े चार बजे फिर से बूंदाबांदी हुई, लेकिन बूंदों ने गति नहीं पकड़ी। बूंदाबांदी थमते ही फिर से तेज हवाएं चलीं। मौसम विभाग के अनुसार आज शाम को उत्तर की ओर से आईं हवाओं की गति 24 से 30 कि.मी. प्रति घण्टा थी। विद्युत लाइन या तार टूटने से कोई जन हानि न हो। इस दृष्टि से धूल भरी आंधी शुरू होते ही विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा पूरे शहर की बिजली बंद कर दी गई। इस दौरान दो किश्तों में करीब एक घण्टे तक बिजली आपूर्ति बंद रही, जिससे शहरवासी गर्मी से पसीना-पसीना होते रहे।

इसलिए बदला मौसम

भोपाल के मौसम विज्ञानी उमाशंकर चौकसे ने बताया कि पंजाब व हरियाणा में ऊपरी हवाओं का चक्रवात और राजस्थान व उड़ीसा में कम दबाव के क्षेत्र बने हुए हैं। इसके साथ ही पंजाब से मध्यप्रदेश होते हुए छत्तीसगढ़ तक एक ट्रफ लाइन गुजर रही है। इन्हीं सब सिस्टमों के असर से शनिवार को लगभग पूरे मध्यप्रदेश का मौसम बदल गया है। इसका असर ग्वालियर व चम्बल अंचल में भी है। हालांकि इससे तेज बारिश की संभावना नहीं है, लेकिन अगले 24 घण्टे के दौरान तेज हवाओं के साथ छुटपुट बारिश की संभावना अवश्य बनी हुई है, जिससे तापमान में आंशिक कमी आएगी।

तापमान फिर भी 44.5 डिग्री पर
स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार शनिवार को बादल छाए रहने, तेज हवाएं चलने और छुटपुट बूंदाबांदी होने के बावजूद शहर में अधिकतम तापमान 44.5 डिग्री दर्ज किया गया, जो औसत से 2.4 डिग्री अधिक है, जबकि न्यूनतम तापमान 30.0 डिग्री पर रहा। यह भी औसत से 2.6 डिग्री अधिक है। इसी प्रकार हवा में नमी सुबह 61 व शाम को 34 फीसदी दर्ज की गई, जो सामान्य से क्रमश: 28 व 15 फीसदी अधिक है।

Updated : 22 May 2016 12:00 AM GMT
Next Story
Top