Top
Home > Archived > सिंहस्थ एक, संदेश अनेक

सिंहस्थ एक, संदेश अनेक

सिंहस्थ एक, संदेश अनेक



दिख रहे हैं स्वच्छता और स्वास्थ्य जागरूकता के उदाहरण
भोपाल :सिंहस्थ महापर्व में आए श्रद्धालु भक्ति-भाव के साथ ही अपने आचरण, कार्य और व्यवहार से विभिन्न संदेश दे रहे हैं। मेला क्षेत्र के मंगलनाथ जोन में जहाँ विभिन्न अखाड़ों के बाहर स्थापित पेयजल काउंटर, डस्टबिन आदि का सभी उपयोग कर रहे हैं, वहीं बड़े रैन बसेरों में आराम कर रहे कुछ लोग निजी मच्छरदानी इस्तेमाल कर रहे हैं। फॉगिंग मशीन और हेण्ड स्प्रे की व्यवस्था संपूर्ण मेला क्षेत्र में हैं, फिर भी मच्छरों को भगाने के लिए व्यक्तिगत रूप से स्वास्थ्य रक्षा के प्रयास दिखाई दे रहे हैं।

अनेक ऐसे दृश्य देखने को मिल रहे हैं जहाँ बुजुर्ग श्रद्धालु साथ आए बच्चों को कहीं भी कचरा न फेंकने की हिदायत देते हैं। यहां तक कि कोई भी श्रद्धालु खुले में थूकता नजर नहीं आता। शासन द्वारा जगह-जगह पर मूत्रालय बनाए जाने से मेला क्षेत्र में कहीं भी खुले इलाके में कोई श्रद्धालु नियम तोड़ता नजर नहीं आता। बच्चे भी वैचारिक परिपक्वता दिखा रहे हैं। कहीं भी नल की टोंटी खुली नहीं रहने देते।

सिंहस्थ में स्वच्छता बरतने के ये उदाहरण, श्रेष्ठ नागरिकता के प्रशंसनीय उदाहरण माने जा रहे हैं। स्व-अनुशासन भी दिखाई दे रहा है। किसी स्थान पर यदि शरबत या प्रसाद वितरण होता है तो श्रद्धालु पंक्तिबद्ध होकर अपनी पारी की प्रतीक्षा करते हैं। कानून-व्यवस्था, सफाई व्यवस्था में लगे वाहन या एम्बुलेंस जब सड़कों से गुजरने हैं तो श्रद्धालु पूरा सहयोग करते हुए उन वाहनों को तत्काल साइड भी देते हैं।

इस तरह से महापर्व आदर्श और अनुकरणीय व्यवहार का संदेश देता नजर आ रहा है।

Updated : 2016-04-28T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top