Home > Archived > आरपार की लड़ाई को तैयार सराफा कारोबारी

आरपार की लड़ाई को तैयार सराफा कारोबारी

*सोमवार को अंचल के व्यापारियों के साथ महारैली
*आंदोलन के लिए संघर्ष समिति का गठन
*चौथे दिन भी अंचल में सराफा कारोबार ठप

ग्वालियर। ज्वैलरी व्यवसाय पर एक प्रतिशत एक्साईज ड्यूटी लगाए जाने के विरोध में आंदोलन कर रहे सराफा कारोबारी अब आरपार की लड़ाई लडऩे को तैयार हैं। शनिवार को चेम्बर पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में आंदोलन चलाने के लिए शहर की सभी सराफा एसोसिएशनों के अध्यक्ष, सचिवों एवं चेम्बर के कार्यकारिणी सदस्यों की संघर्ष समिति बनाई गई। इसका संयोजक चेम्बर के मानसेवी सचिव डॉ. प्रवीण अग्रवाल को बनाया गया है। इस समिति में ग्वालियर-चम्बल संभाग की सराफा एसोसिएशनों को भी शामिल किया जाएगा।

बैठक में सभी व्यापारियों का कहना था कि केन्द्रीय वित्तमंत्री पर दबाव बनाने के लिए 2012 की तरह व्यापक आंदोलन चलाया जाए। जब तक इस आंदोलन का असर जनता पर नहीं पड़ेगा, तब तक सरकार अपना निर्णय वापस नहीं लेगी, इसलिए आंदोलन में छह करोड़ रुपए से कम टर्नओवर वाले व्यापारियों को भी शामिल किया जाए।

दो मार्च से बंद है सराफा बाजार
एक्साइज ड्यूटी के विरोध में विगत दो मार्च से शहर का सराफा बाजार पूर्ण रूप से बंद है। सराफा बंद हुए चार दिन पूरे हो चुके हैं, जिससे पूरे शहर में जहां लगभग तीस करोड़ का कारोबार प्रभावित हो चुका है वहीं सहालगी ग्राहक भी बाजार बंद होने के कारण बेहद परेशान हैं। सोना-चांदी व्यवसाय संघ के अध्यक्ष पुरुषोत्तम जैन ने बताया कि अगर सब-कुछ ठीक रहा तो आगामी सात मार्च से सराफा बाजार खुल सकता है। उन्होंने बताया कि एक्साइज ड्यूटी के विरोध में रविवार को दिन के समय जागरुकता रैली भी निकाली जाएगी। जो लश्कर, मुरार और ग्वालियर में घूमेगी।

इनको शामिल किया संघर्ष समिति में
संघर्ष समिति से लश्कर से पुरुषोत्तम जैन, अनूप खंडेलवाल, राजकुमार वर्मा, पी.डी. सोनी, ग्वालियर उपनगर से अभिषेक गोयल, राजेन्द्र प्रसाद जैन, नरेन्द्र सोनी, वीरेन्द्र सोनी, मुरार से महेशचंद गोयल, पदमचन्द जैन, संजय मंगल, मोहनसिंह माथुर, सराफा व्यवसाय से जुड़े चेम्बर के कार्यकारिण सदस्य, डबरा से राजेश जैन व एसोसिएशन के सचिव शामिल किए गए हैं। इसमें अंचल के सभी जिलों की एसोसिएशनों के अध्यक्ष एवं सचिवों को भी शामिल किया जाएगा।

आज केन्द्रीय मंत्री तोमर से मिलेंगे
बैठक में तय किया गया कि सराफा कारोबारी रविवार छह मार्च को सुबह दस बजे संघर्ष समिति के सदस्य और चेम्बर पदाधिकारी केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात कर उन्हें एक्साईज ड्यूटी, ट्रांजिट पास, कर मुक्त वस्तुओं पर फार्म 49 एवं जांच चौकियों से होने वाली परेशानी से अवगत कराकर इसे वापस कराने का आग्रह करेंगे। साथ ही उनसे अनुरोध किया जाएगा कि उनके नेतृत्व में केन्द्रीय वित्त मंत्री से भेंट की जाए।

महारैली सोमवार को
भोपाल, इन्दौर और जबलपुर की तर्ज पर ग्वालियर-चम्बल संभाग के सराफा व्यवसायी सात मार्च सोमवार दोपहर 2.30 बजे ग्वालियर में महारैली निकालेंगे। इस रैली के लिए अंचल के व्यापारियों से सम्पर्क किया जाएगा।

व्यापारियों ने बाजारों में लगाए काले झण्डे
राज्य सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2016-17 हेतु राज्य बजट में प्रस्तावित किए गए ट्रांजिट पास, कर मुक्त वस्तुओं पर फार्म 49 (कपड़ा-शक्कर) एवं जांच चौकियों को हटाए जाने के लिए प्रारंभ किए गए आंदोलन के तहत शनिवार को शहर के मुख्य बाजारों में काले झण्डे लगाकर विरोध प्रदर्शन किया।
चेम्बर अध्यक्ष अरविन्द अग्रवाल एवं सचिव डॉ. प्रवीण अग्रवाल ने बताया कि चेम्बर के नेतृत्व में चरणबद्ध आंदोलन प्रारंभ किए गए हैं, जिन्हें व्यापारियों का सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि मांगें पूरी नहीं होने पर चेम्बर का आंदोलन आगे भी जारी रहेगा।
यहां लगे झण्डे:- विरोध स्वरूप दाल बाजार, नया बाजार, लोहिया बाजार, दौलतगंज, महाराज बाड़ा, सराफा बाजार एवं जयेन्द्रगंज स्थित व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर काले झण्डे लगाकर आंदोलन के लिए समर्थन मांगा।

Updated : 2016-03-06T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top