Home > Archived > पर्यावरण संवर्धन पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन 2 से

पर्यावरण संवर्धन पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन 2 से

देश-विदेश के विषय विशेषज्ञों का मिलेगा मार्गदर्शन

झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय की ओर से पर्यावरण संवर्धन की दिशा में प्रयास करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन 2 मार्च से किया जा रहा है। इस सम्मेलन में वर्तमान में पर्यावरण पर दुष्प्रभाव डालने वाले कारणों पर गंभीरता पूर्वक चिन्तन किया जाएगा। विश्वविद्यालय के रसायन शास्त्र विभाग द्वारा आयोजित किए जा रहे इस सम्मेलन में देश विदेश के ख्याति प्राप्त विशेषज्ञ शामिल होंगे। उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि भारतीय वैज्ञानिक शिक्षा एवं शोध संस्थान भोपाल के निदेशक पद्मश्री डॉ. विनोद कुमार सिंह रहेंगे तथा अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेन्द्र दुबे करेंगे। जबकि मलेशिया की वैज्ञानिक डॉ. सुरैय्या अब्दुल राशिद विशिष्अ अतिथि के तौर पर शामिल रहेंगी।


सम्मेलन के विषय पर आयोजित एक पत्रकार वार्ता में विश्वविद्यालय की ओर से दी गई एक जानकारी में बताया गया कि वर्तमान में जिस प्रकार से सामग्री निर्मित की जा रही है, उसमें पर्यावरण की रक्षा के बारे में किसी प्रकार से ध्यान नहीं रखा जा रहा है। इस कारण आज के समय में अनुपयोगी सामग्री की मात्रा दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। प्रोफेसर ए. के. सक्सेना और सम्मेलन की संयोजिका डॉ. रेखा लगरखा ने जानकारी में बताया कि ऐसे विज्ञान से कोई लाभ नहीं, जो समस्या पैदा करे, बल्कि विज्ञान ऐसा होना चाहिए जिससे समस्या का समाधान भी हो। सम्मेलन में ईको फ्रेंडली विषय पर चिन्तन करते हुए इस प्रकार की संभावनाएं तलाश की जाएंगी, जो ईको फ्रेंडली के लिए सकारात्मक दिशा प्रदान करे।


उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के गांधी सभागार में होने वाले इस तीन दिवसीय आयोजन में कुल सात सत्र होंगे। जिसमें सऊदी अरेबिया के प्रो. हूंग कुन फन, मलेशिया के प्रो. अब्दुल वहाब, दक्षिण अफ्रीका की प्रो. प्रीस्ला बेकर तथा मलेशिया की प्रो. रोज हक शामिल होंगे।इसके अलावा आईआईटी, डीआरडीओ, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, राजस्थान विश्वविद्यालय, ग्वालियर विश्वविद्यालय, कर्नाटक विश्वविद्यालय एवं सागर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक एवं रसायन शास्त्री अपने शोध कार्यों की उपलब्धियों को सम्मेलन में प्रतिभागियों के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। उन्होंने बताया कि सम्मेलन में 47 मौखिक प्रस्तुतियों के अतिरिक्त 72 पोस्टर प्रस्तुतियां भी विभिन्न प्रतिभागी वैज्ञानिकों द्वारा दी जाएंगी।सम्मेलन में भाग लेने हेतु विभिन्न देशों से 150 वैज्ञानिक व शोधार्थी शामिल रहेंगे। पत्रकार वार्ता में डॉ. प्रकाश चंद्रा, डॉ. चित्रा गुप्ता, डॉ. गौरी खानवलकर, डॉ. धीरेन्द्र शर्मा, कमलेश बिलगैयां आदि शामिल रहे।

Updated : 2016-03-01T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top