Top
Home > Archived > अंबाह कवि सम्मेलन में गूंजे राष्ट्रभक्ति के स्वर

अंबाह कवि सम्मेलन में गूंजे राष्ट्रभक्ति के स्वर

मुरैना। रोटरी क्लव अम्बाह एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद के संयुक्त तत्वाधान में रविवार की रात रतन बाटिका अम्बाह में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में राष्ट्रभक्ति के स्वरों से वातावरण गूंजता रहा। कवि सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे हनुमान प्रसाद, एसडीओपी किशोर ङ्क्षसंह भदौरिया व कवियों ने दीप प्रज्जलन किया।

माँ शारदे की बंदना कवियत्री शाहिदा कुर्रेशी ने की। रोटरी अध्यक्ष डा. सुधीर आचार्य ने कवियों का परिचय कराया एवं वरिष्ठ कांग्रेसी जयप्रकाश गुधैनिया, नपा अध्यक्ष रामप्रकाश सखवार सहित अंकुर बादिल, अंकित मिश्रा, मनोज पंडित, शिवदत्त, गजेन्द्र ङ्क्षसंह तोमर, सतीश शर्मा, पियूष गुप्ता ने सभी कवियों को सृजनश्री सम्मान प्रदान किया। इस अवसर पर जिला पुरातत्व अधिकारी अशोक शर्मा, गीतकार रामप्रकाश अनुरागी ने आयोजन के महत्व पर प्रकाश डाला।


कवि सम्मेलन का आगाज अतुल कुशवाह के श्रंगारिक गीत से हुआ। कवियत्री चेतना शर्मा ने वीर सैनिकों की धरती को नमन करते हुये देश पर प्राण न्यौछाबर करने वाले शहीदों के बलिदान पर तिरंगा कविता के माध्यम से देशभक्ति का वातावरण निर्मित कर दिया। कवि राजकिशोर राज ने गीत के माध्यम से मानवता स्थापित करने का संदेश दिया। कवि रामकिशोर उपाध्याय ने भारत विरोधी गतिविधियों के खिलाफ कविता के माध्यम से देशद्रोहियों को चेताया। तथा देश भक्ति के प्रवाह को मुन्नालाल यादव व अनवर ने भी जारी रखा।

राजेश शर्मा ने प्रकृति के संरक्षण आव्हान ममस्पर्शी गीत के माध्यम से प्रस्तुत किया। अखिलेश अखिल ने युवाओं को कविता के माध्यम से देशभक्ति का संदेश दिया। इसके अलावा लालबत्ती और कार्यक्रम का संचालन कर रहे प्रहलाद भक्त ने हास्य कविताओं के माध्यम से माहौल को हसीन बना दिया। अंत में आभार प्रदर्शन शिवदत्त शर्मा ने किया। इस अवसर काफी संख्या में श्रोतागण मौजूद थे।

Updated : 2016-03-01T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top