Top
Home > Archived > हाईस्पीड ट्रेन के लिए

हाईस्पीड ट्रेन के लिए

ग्वालियर-झांसी ट्रैक का होगा निरीक्षण!

ग्वालियर। दिल्ली से मुम्बई के बीच हाईस्पीड ट्रेन चलेगी। जिसके माध्यम से यह यात्रा मात्र 12 घंटे में पूरी हो जाएगी। यह देश में पहली हाईस्पीड ट्रेन होगी। इसी के साथ आगरा से इटारसी मार्ग पर भी ऐसी ही ट्रेन चलाने की योजना है। इसके लिए ग्वालियर-झांसी ट्रेक का निरीक्षण किया जा सकता है।
रेलवे सूत्र बताते हैं कि जल्द ही जापान की टेलगो कम्पनी आगरा से इटारसी और ग्वालियर- झांसी वाले मार्ग का भी निरीक्षण कर सकती है। यदि इस मार्ग का परीक्षण सफल साबित होता है तो आने वाले समय में इस ट्रेक पर हाइस्पीड ट्रेन चलाई जा सकेगी। तब ग्वालियर वासियों का मुम्बई का सफर तय करने में 10 से 12 घण्टे ही व्यय करने पड़ेगें। वहीं भोपाल तक पहुंचने वाली शताब्दी एक्सप्रेस की रफ्तार भी 160 प्रति किलोमीटर करने की कवायद चल रही है।
इन्होंने कहा
आने वाले समय में सभी मार्गों पर हाईस्पीड ट्रेन चलाई जानी है। अभी दिल्ली मुम्बई मार्ग को प्राथमिकता में रखा गया है। यदि सबकुछ ठीक रहा तो निश्चित ही मुम्बई-दिल्ली के बीच यात्रा करने वालों को इससे राहत मिलेगी।
विजय कुमार
सीपीआरओ इलाहाबाद



कोहरे ने फिर बिगाड़ी रेलगाडिय़ों की चाल

शताब्दी सहित कई गाडिय़ां चलीं विलम्ब से


कोहरे के कारण एक बार फिर रेलगाडिय़ों की चाल बिगडऩे लगी है। शताब्दी सहित करीब एक दर्जन से अधिक गाडिय़ां अपने निर्धारित समय से विलम्ब से चलीं। इसके चलते यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
जानकारी के अनुसार जहां एक ओर रेलवे बोर्ड ने बीते दिनों कोहरा समाप्त होने के चलते चार माह पूर्व रद्द की गईं गाडिय़ों का संचालन शुरू करने का निर्णय लिया था। जिससे यात्रियों ने कुछ राहत की संास ली थी। सोमवार से सभी रद्द गाडिय़ों का संचालन भी शुरू कर दिया गया। लेकिन आज कश्मीर सहित दिल्ली क्षेत्र में कोहरे का प्रकोप एक बार फिर से देखने को मिला। जिसके चलते रेलगाडिय़ों की रफ्तार धीमी पड़ गई और एक दर्जन से अधिक गाडिय़ां अपने निर्धारित समय से विलम्ब से चलीं।
यह गाडिय़ां चलीं विलम्ब से
शताब्दी एक्सप्रेस 1:30 घण्टे, पंजाब मेल 2 घण्टे, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस 2:30 घण्टे, अमृतसर-मुम्बई एक्सप्रेस 1:30 घण्टे, अमृतसर-विशाखापटनम एक्सप्रेस 1:30 घण्टे, खजुराहो एक्सप्रेस 1:20 घण्टे, एवं ताज एक्सप्रेस डेढ़ घण्टे विलम्ब से संचालित हुईं।

Updated : 2016-02-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top