Latest News
Home > Archived > बीआरसी के निलंबन की आजाद अध्यापक संघ ने की निंदा

बीआरसी के निलंबन की आजाद अध्यापक संघ ने की निंदा

जिला प्रशासन के विरोध में सौंपा ज्ञापन

भिण्ड। बीआरसी के निलंबन की कार्रवाई से नाराज आजाद अध्यापक संघ ने जिलाधीश को ज्ञापन सौंपकर विरोध जताते हुए जिला प्रशासन की इस कार्रवाई की कड़े शब्दों में निन्दा की है। आजाद अध्यापक संघ के आह्वान पर काफी संख्या में अध्यापक, संविदा शिक्षक, गुरूजियों ने एकराय होकर भिण्ड बीआरसी के विरुद्ध जिला पंचायत सीईओ द्वारा एक पक्षीय निलंबन की कार्रवाई करते का विरोध जाताया है।
आजाद अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष संतोष लहारिया व राज्य अध्यापक संघ के जिला अध्यक्ष शैलेन्द्र सेंगर ने प्रेस को दी जानकारी में बताया है कि सीईओ की एक पक्षीय कार्रवाई के विरोध में विकास खण्ड स्तर पर भी ज्ञापन सौंपे गए हैं। जिसमें लहार विकास खण्ड पर शैलेन्द्र सिंह कुशवाह, शिवप्रताप सिंह, रौन विकास खण्ड में आलोक शर्मा, अखिलेश शर्मा, मेहगांव में राजेश थापक, रामसिंह दौहरे, गोहद में राघवेन्द्र सिंह तोमर, गुरूमीत कौर, राजीव त्रिपाठी के नेतृत्व में ज्ञापन सौंपे गए। आजाद अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष संतोष लहारिया ने कहा कि अध्यापक जहां पूर्ण मनोयोग से जिला प्रशासन ककी मंशा के अनुरूप नकल मुक्त भिण्ड, नि:शुल्क कोचिंग सेंटर व शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम में अध्यापकों द्वारा पूरा सहयोग दिया जा रहा है। बीआरसी भिण्ड का भी इन सभी गतिविधियों के संचालन में पूर्ण सहयोग देकर नेतृत्व का काम कर रहे हैं। फिर भी जिला प्रशासन ने अध्यापक केडर के बीआरसीसी भिण्ड को निलंबित कर दिया जो निंदनीय है।
आगामी दिनों में परीक्षाओं का आयोजन होना है। जिसमें दूरदराज ग्रामीण अंचलों में बनाए गए परीक्षा केन्द्रों को नकल रोकने में काफी मशक्कत करनी पड़ेगी। जिसमें नकल माफियाओं से टकराव होगा। यदि जिला प्रशासन अति उत्साह में अध्यापकों पर बिना पक्ष सुने कार्रवाई करेगा तो अध्यापकों को विरोध के लिए मजबूर होना पड़ेगा। ज्ञापन देने वालों में शैलेष त्रिपाठी, राकेश शर्मा, राघवेन्द्र सिंह कुशवाह, देवेन्द्र त्रिपाठी, राकेश राजपूत, राजेश थापक प्रमुख हैं।

Updated : 2016-02-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top