Top
Home > Archived > साहब! हमारी फसल सूख रही है

साहब! हमारी फसल सूख रही है

जनसुनवाई में किसानों ने लगाई नहर में पानी छोड़ की गुहार, 274 फरियादियों की सुनी समस्याएं

ग्वालियर। साहब! हमारी जमीन पर अभी गेहूं की फसल खड़ी हुई है, जिसे एक भी बार पानी नहीं लगा है,हमारे पास आय का एकमात्र साधन कृषि ही है। खेतों से ही हमारे परिवार का पालन पोषण होता है, यदि हमारी फसल सूख गई तो परिवार को भूखों मरने पर मजबूर होना पड़ेगा। यह गुहार मंगलवार को कलेक्ट्रेट में आयोजित जनसुनवाई में ग्राम बाबूपुर, छाबरा,निबी, कैथोदा, सहुना तहसील पिछोर जिला ग्वालियर के किसानों ने एडीएम शिवराज वर्मा से लगाई। किसानों ने कहा कि इससे पहले भी पानी देने के संबंध में एक आवेदन एसडीएम डबरा, एसडीओ सिंचाई विभाग को दिया था। लेकिन उनके द्वारा अभी तक कोई भी कार्रवाई नहीं की गई। किसानों ने बताया कि ग्राम पहाड़ी के किसान नहर में रोक लगाकर अपने खेतों की ओर नालियों, गड्डों में पानी की बर्बादी करते हैं। विरोध करने पर झगड़ा करने पर उतारू हो जाते है। जिसकी शिकायत किसानों ने पुलिस से भी की। लेकिन उनकी तरफ से भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। किसानों ने प्रार्थना की कि नहर का पानी छोडऩे के लिए सिंचाई विभाग पिछोर, डबरा से कहा जाए, ताकि उनकी फसल को पर्याप्त पानी मिल सके।श्री वर्मा ने तुरंत कार्यपालन यंत्री से दूरभाष पर चर्चा कर किसानों की समस्या हल करने के लिए कहा।
जनसुनवाई में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी नीरज कुमार सिंह, विवेक श्रोत्रिय सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों ने एक-एक कर सभी फरियादियों की समस्याएं सुनीं।
फर्जी दस्तावेज लगाकर निकाली छात्रवृत्ति
मंगलवार को कलेक्ट्रेट में छात्रा साधना चौधरी ने एडीएम शिवराज वर्मा को दिए आवेदन में कहा कि वीआईपीएस कॉलेज ग्राम खुरेरी में किसी व्यक्ति ने उसके नाम से बीएससी बायोटेक में फर्जी दस्तावेज लगाकर प्रवेश लिया व छात्रा के नाम पर छात्रवृत्ति निकाल ली गई। जिस कारण छात्रा की छात्रवृत्ति रूक गई है। छात्रा ने कहा कि ऐसा उसके साथ ही नहीं बल्कि कई छात्राओं के साथ हो रहा है।
सुनवाई के लिए भटके फरियादी
सरकार द्वारा आमजन की समस्याओं की सुनवाई के लिए शासन स्तर से तय दिन मंगलवार को भी अधिकारी जनसुनवाई में समय से नहीं बैठ रहे हैं। ऐसे में फरियाद लेकर आने वाले लोगों की समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है। बीते कई मंगलवार से कलेक्ट्रेट में होने वाली जनसुनवाई में ऐसा नहीं हो रहा है। अधिकतर अधिकारी जनसुनवाई में समय पर नहीं पहुंच रहे हंै, जिससे अपनी फरियाद लेकर आने वाले फरियादी इधर उधर भटकते रहते है। मंगलवार को जब इस संवाददाता ने जनसुनवाई कक्ष का जायजा लिया तो 11.30 बजे तक अधिकतर अधिकारी नदारद थे। जिसमें लश्कर एसडीएम अखिलेश जैन, डीपीसी केजी शुक्ला, डिप्टी कलेक्टर इकबाल मोहम्मद, आर सी मिश्रा, महिला बाल विकास अधिकारी,महिला सशक्तिकरण अधिकारी, एसडीएम महिप तेजस्वी, अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा, खाद्य विभाग अधिकारी 11.30 बजे तक अपनी सीट पर मौजूद नहीं थे। जिसके चलते जनसुनवाई में अपनी समस्याओं के समाधान के लिए आए ग्रामीण इधर-उधर भटकते नजर आए।
*देरी से पहुंचे अधिकारियों को थमाए नोटिस
*जनसुनवाई में निगमायुक्त ने सुनीं समस्याएं
नगर निगम मुख्यालय सिटी सेन्टर में मंगलवार को आयोजित जनसुनवाई में देरी से पहुंचे अधिकारियों के प्रति सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए निगमायुक्त अनय द्विवेदी ने उन्हें नोटिस थमा दिया। इस दौरान निगमायुक्त ने जहां 38 आवेदकों की समस्याएं सुनकर उनका निराकरण तय समय-सीमा में कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए वहीं वीडियो कॉन्फें्रस के माध्यम से आवेदकों की छोटी-छोटी समस्याओं का त्वरित समाधान करने के निर्देश उन्होंने संबंधित क्षेत्राधिकारियों को दिए। इससे पहले जनसुनवाई में देरी से आने पर निगमायुक्त ने मुख्य समन्वयक अधिकारी आरएलएस मौर्य, प्रेम पचौरी, क्लस्टर अधिकारी एपीएस जादौन, कीर्तिवर्धन मिश्रा, पवन सिंघल, बी.के. धुकोरिया को कारण बताओ नोटिस जारी किए। इसके अलावा जनसुनवाई के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेसिंग व्यवस्था ठीक से न चलने पर कम्प्यूटराइजेशन प्रभारी नागेन्द्र सक्सेना एवं समय पर गौशाला न पहुंचने की शिकायत पर डॉ. सुभाष गुप्ता को भी कारण बताओ नोटिस दिया गया। इस अवसर पर अपर आयुक्त संदीप माकिन, डॉ. एम.एल. दौलतानी, अभय राजनगांवकर, उपायुक्त जे.एन. पारा सहित सभी विभागाधिकारी उपस्थित थे।

Updated : 2016-02-17T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top