Top
Home > Archived > हलधरों को तोहफा है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: नंद कुमार

हलधरों को तोहफा है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: नंद कुमार

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वं सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि आजादी के बाद देश की सरकार ने किसान की अन्नदाता के रूप में अहमियत को समझा है। खेती को मौसमी जोखिम में आर्थिक सुरक्षा कवच देकर नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के रूप में सत्रह-अठारह हजार करोड़ रूपए का केंद्र पर भार वहन करने का संकल्प लेकर किसानों को मुसीबत में मुस्कारने का सहारा दिया है।
प्रदेश के किसान 18 फरवरी को शेरपुर, में पहुंचकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगवानी और अभिनंदन करेंगे। चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री अरविंद मेनन शेरपुर, सीहोर में पार्टी की व्यवस्था संबंधी बैठक में तैयारियों का जायजा लेते हुए इलाके के किसानों से मिले। 18 फरवरी को प्रदेश भर से पहुंचने वाले लाखों किसानों की सुविधा के लिए की जा रही व्यवस्था का जायजा लिया और व्यवस्था में प्रशासन से तालमेल बनाये रखने, व्यवस्था संभालने में कार्यकर्ताओं को सक्रिय रखने के विविध विषयों पर विस्तार से चर्चा की। किसान कुंभ परिसर में चल रही तैयारियों का अवलोकन भी किया। बैठक में भाग लेने पहुंचे जिलों के किसानों से नंदकुमार सिंह चौहान ने चर्चा के दौरान बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जय जवान, जय किसान और जय विज्ञान नारे को हकीकत में विस्तार और संवर्धन किया है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार खेती के क्षेत्र में नई क्रांति लाने के लिए 6 बिंदुओं पर काम कर रही है। इसमें कृषि अनुसंधान सर्वोच्च प्राथमिकता है। सोइल हेल्थ कार्ड का वितरण भी एक बिंदु है, जिसका लक्ष्य उत्पादन बढ़ाना है। जैविक खेती पर जोर देते हुए ही प्रधानमंत्री ने सिक्किम राज्य को जैविक राज्य का दर्जा देकर प्रोत्साहित किया है। कृषि मंडियों को विपणन का मंच बनाया जा रहा है। इसी वर्ष सितम्बर तक 200 कृषि मंडियों को ई-ट्रेडिंग से जोड़ दिया जायेगा। 2017 तक 400 मंडियों को और मार्च 2018 तक 585 कृषि मंडियां ई-ट्रेडिंग का केंद्र बन जायेगी। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने आपदा का दायरा सीमित रखा। बीमा कर्ज का किया जिससे किसान के हाथ कुछ नहीं लगा। लेकिन नरेंद्र मोदी ने आपदा को वृहत दायरे में परिभाषित किया। मुआवजा की राशि बढ़ा दी और यहां तक कहा कि यदि मौसम के कारण फसल खराब हो जाती है किसान फसल नहीं बो पाता तो भी किसान दावा वसूल करेगा। कम प्रीमियम में अधिकतम किसान का लाभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संवेदनशीलता का प्रमाण है।
किसान महासम्मेलन की तैयारी बैठक आज
18 फरवरी को शेरपुर, सीहोर में आयोजित हो रह िकिसान महासम्मेलन की व्यवस्था के सुचारू संचालन के लिए गठित 22 समूहों के प्रमुखों की बैठक 15 फरवरी को दोपहर 12 बजे शेरपुर, किसान कुंभ स्थल पर आयोजित की गई है। बैठक को प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लूनावत एवं प्रदेष महामंत्री अरविंद सिंह भदौरिया संबोधित करेंगे। बैठक में अपने चिन्हित कार्यों की जानकारी देकर व्यवस्था के प्रति आश्वस्त होंगे। इन 22 समूहों में 40 से लेकर 60 तक कार्यकर्ताओं की टोलियां बनाई गई हैं।

Updated : 2016-02-15T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top