Top
Home > Archived > क्या अब फरियादी से थानों में नहीं होगी अभद्रता?

क्या अब फरियादी से थानों में नहीं होगी अभद्रता?

क्या अब फरियादी से थानों में नहीं होगी अभद्रता?

एक दर्जन थानों का पुलिस अधीक्षक खरे ने किया निरीक्षण


ग्वालियर।
थाने में अब फरियाद लेकर जाने वाले को पुलिस की अभद्र भाषा और दुत्कार का सामना नहीं करना पड़ेगा। गुरुवार को नवागत पुलिस अधीक्षक आशीष खरे ने एक दर्जन थानों का निरीक्षण करने के दौरान सिर्फ यही देखा कि थानों की कार्यशैली व कार्यप्रणाली कैसी है।

लिस अधीक्षक डॉ. आशीष खरे ने शहर के एक दर्जन थानों का निरीक्षण किया, पद सभांलने के दो दिन बाद ही एक दर्जन थानो को जाकर देखने के पीछे उनके इरादे साफ है कि थाने की चौखट पर जो भी पहुंचे उसे इंसाफ तो मिले ही फरियादी के साथ शिष्टाचार का व्यवहार किया जाए। अब थानों में बैठे हवलदार और आरक्षक सतर्क हो जाएं निरीक्षण में पुलिस अधीक्षक ने सिर्फ इसी पर ध्यान दिया कि थानों की कार्यप्रणाली और कार्यशैली कैसी है। विवेचना किस ढंग से की जाती है तो बीट सिस्टम कैसे काम कर रहा है, रोजनामचा आदि व्यवस्थित कैसे रहते हैं आदि। सूत्र बताते हैं कि अब थानों में कार्यशैली बदल जाएगी। डॉ.आशीष खरे ने थानों में उन्ही कक्षों पर ज्यादा ध्यान दिया जहां पर बैठकर हेड मोर्हिरर प्राथमिकी दर्ज करता है। थाने में आने वाले फरियादी के साथ अच्छा व्यवहार हकीकत में किया जाएगा। नवागत पुलिस अधीक्षक की पहली प्राथमिकता में यह भी शामिल बताया जा रहा है। क्या ये माना जाए कि कम्पू, माधौगंज, कोतवाली, इन्दरगंज, बहोड़ापुर, महाराजपुरा, हजीरा, ग्वालियर, गोले का मंदिर सहित अन्य थानों में अब सब कुछ भगवान भरोसे चलने वाला नहीं है। विवेचना किस स्तर की हो रही है जैसे कामों का पूरा लेखा जोखा देना पड़ेगा। बीट सिस्टम को भी प्रभावी बनाया जाएगा। आज जब पुलिस अधीक्षक ने थानों का निरीक्षण किया तो उनके साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दिनेश कौशल भी थे।

सट्टा, जुआ, शराब व नशे के तस्करों पर रहेगी नजर: खरे
शहर में फलफूल रहे सट्टा, जुआ और अवैध शराब व नशे के कारोबार पर पुलिस अधीक्षक आशीष खरे की नजर रहेगी। अनुशासित और कतवर््यनिष्ठ पुुलिस व्यवस्था प्रदान करना उनकी प्राथमिकता में रहेंगे। इसके साथ ही राह चलती छात्राओं, महिलाओं व बुजुर्गों के साथ घटित अपराधों में बदमाशों के विरूद्ध कार्रवाई को मंै अपनी जिम्मेदारी मानता हूँ। शहर के प्रत्येक वर्ग और खासकर व्यापारियों को सुरक्षा प्रदान करने और अधीनस्थ अधिकारियों का मनोबल ऊंचा रखने के लिए सदैव प्रयासरत रहूंगा ताकि वह अधिक ऊर्जा से काम कर सके।

Updated : 2016-12-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top