Top
Home > Archived > हमें मिलकर आतंकवाद से लड़ना होगा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

हमें मिलकर आतंकवाद से लड़ना होगा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

हमें मिलकर आतंकवाद से लड़ना होगा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

अमृतसर| पंजाब के अमृतसर में चल रहे हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफगानिस्तान को बेहद जरूरी पड़ोसी मानते हुए हर मदद का भरोसा दिया। साथ ही इशारों-इशारों में पाकिस्तान का नाम लिये बगैर उस पर निशाना साधा और कहा कि वहां आतंकवाद को बढ़ावा देने वालों की पहचान करनी होगी।

प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि आतंक के खात्मे के लिए मिलकर आवाज उठानी होगी। सिर्फ बात नहीं, हमें मिलकर आतंकवाद से लड़ना होगा। इच्छाशक्ति दिखानी होगी। आतंक और उनके आकाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होगी। सिर्फ बात करने से कुछ नहीं होगा। आतंकवाद पर चुप रहने से इसे बढ़ावा मिलता है। आतंक की फंडिंग पर भी रोक जरूरी है।

हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले निमंत्रण स्वीकार करने के लिए सभी देशों के प्रतिनिधियों को शुक्रिया कहा। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन का उद्घाटन करना बहुत ही सम्मान की बात है। अमृतसर को वीरों की भूमि बताते हुए मोदी ने कहा कि ये शहर शांति व पवित्रता का शहर है। उन्होंने अफगानिस्तान के साथ अपने बेहद खास रिश्तों को बताते हुए कहा कि अमृतसर का अफगानिस्तान की धरती से रिश्ता है। इसलिए वहां शांति बेहद जरूरी है।
अपने संबोधन में अफगानिस्तान को बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अफगानिस्तान की मदद करना हमारा मकसद है। हम वहां में शांति लाना चाहते हैं। अफगानिस्तान के साथ करीबी रिश्ते हैं। पूरे क्षेत्र में शांति बहाली की कोशिश हो रही है। भारत हमेशा अफगानिस्तान के जांबाजों के साथ है।
मोदी ने कहा कि अफगानिस्तान साउथ एशिया-सेंट्रल एशिया की कड़ी है। अफगानिस्तान की संसद दोनों की दोस्ती की निशानी है। भारत-अफगानिस्तान की दोस्ती की निशानी सलमा डैम है। विकास से ही अर्थव्यवस्था बेहतर होगी।

Updated : 2016-12-04T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top