Top
Home > Archived > नगदी रहित लेन-देन में विद्युत वितरण कम्पनी आगे

नगदी रहित लेन-देन में विद्युत वितरण कम्पनी आगे

नगदी रहित लेन-देन में विद्युत वितरण कम्पनी आगे
X

अब रोकड़ संग्रह केन्द्रों पर 'स्वेप' मशीन लगाने की तैयारी

ग्वालियर।
नोटबंदी के बाद से ही पूरे देश में नगदी रहित लेन-देन (कैशलेस ट्रांजेक्शन) की बात चल रही है। शासन, प्रशासन और बैंकों से लेकर तमाम सामाजिक संगठन आम लोगों को नगदी रहित लेन-देन के लिए जागरुक करने का काम कर रहे हैं, लेकिन म.प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी की बात करें तो उसने नगदी रहित लेन-देन की प्रक्रिया नोटबंदी से बहुत पहले ही शुरू कर दी थी और अब रोकड़ संग्रह केन्द्रों (कैश काउंटरों) पर 'स्वेपÓ मशीन भी लगाने की तैयारी की जा रही है। जानकारी के अनुसार विद्युत वितरण कम्पनी में निम्नदाब उपभोक्ताओं को बिजली बिलों के भुगतान के लिए ऑनलाइन सुविधा पिछले करीब तीन सालों से चल रही है।

यह सुविधा कम्पनी की वेबसाइट www.mpcz.co.in पर उपलब्ध है। इस पर कोई भी उपभोक्ता अपने के्रडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, कैश कार्ड या 50 से अधिक बैंकों की इन्टरनेट बैंकिंग के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान कर सकता है। इसी क्रम में विद्युत वितरण कम्पनी अब रोकड़ संग्रह केन्द्रों पर स्वेप मशीन लगाने की तैयारी की जा रही है, जिसके माध्यम से उपभोक्ता क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, कैश कार्ड से अपने बिजली बिल का भुगतान कर सकेंगे। इसके लिए एसडीएफसी बैंक से अनुबंध की बात चल रही है।

ऐसे कर सकते हैं ऑनलाइन बिल भुगतान
*बिजली कम्पनी की वेबसाइट www.mpcz.co.in पर क्लिक करें।
* अब ङ्कद्बद्ग2 & क्कड्ड4 का बटन क्लिक करें।
* अब उपभोक्ता का बिल कम्प्यूटर की स्क्रीन पर होगा।
*अब भुगतान के लिए चार विकल्पों में से किसी एक का चुनाव करें जैसे डेबिट कार्ड, के्रडिट कार्ड, कैश कार्ड, नेन बैंकिंग।
* भुगतान के लिए आगे बढ़ें और भुगतान करें।
* भुगतान होने पर रसीद जरूर प्रिंट करें। इस प्रकार किया गया भुगतान पूर्णत: सुरक्षित है।

ईसीएस से भी है भुगतान की सुविधा
*ऑनलाइन बिल भुगतान के अलावा विद्युत वितरण कम्पनी ने उपभोक्ताओं को सेवा प्रदाता 'कम्पनी' के माध्यम से ईसीएस (इलैक्ट्रानिक क्लियरिंग सिस्टम) द्वारा भी बिल भुगतान की सुविधा उपलब्ध कराई है। यह सुविधा प्राप्त करने के लिए उपभोक्ताओं को पंजीयन कराना होता है।
*पंजीयन के लिए फोन नम्बर 2558000 या 2550000 पर कार्यालयीन समय में सम्पर्क कर जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
* पंजीयन कराकर उपभोक्ता को बैंक को अपने खाते से ऑनलाइन बिल राशि आहरित करने के लिए अधिकृत करना होता है।
*यह सुविधा उन उपभोक्ताओं के लिए लाभप्रद है, जो व्यस्तता के कारण बिल भुगतान केन्द्रों की लाइन में खड़े नहीं होना चाहते और बिना किसी परेशानी के बिल भुगतान करना चाहते हैं।

इनका कहना
नगदी रहित लेन-देने को बढ़ावा देने के लिए रोकड़ संग्रह केन्द्रों पर स्वेप मशीन लगाने की तैयारी भी की जा रही है। इसके लिए एसडीएफसी बैंक से बात चल रही है। जल्दी ही रोकड़ संग्रह केन्द्रों पर स्वेप मशीन पहुंच जाएंगी।

मनोज द्विवेदी
जनसम्पर्क अधिकारी
म.प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी, भोपाल

Updated : 2016-12-12T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top