Top
Home > Archived > सिंधिया ने आदिवासी के घर बनाई रोटी, शैला नाच भी किया

सिंधिया ने आदिवासी के घर बनाई रोटी, शैला नाच भी किया

शहडोल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया वैसे तो अक्सर अपने ही कार्यकर्ताओं के बीच कुछ असहज होने के कारण चर्चाओं में रहते हैं। लेकिन सोमवार की रात उन्होंने शहडोल जिले के एक आदिवासी के घर रात गुजारकर कुछ नया दिखाने की कोशिश की। इतना ही नहीं श्री सिंधिया ने चूल्हे पर रोटी बनाई ।खाना पकाने में वे कितने कुशल है इसका फिलहाल पता नहीं लेकिन, उप चुनाव के वक्त उनका इस तरह का शो कहीं यह संकेत तो नहीं करता कि वे मास लीडर (जन नेता) बनने चले हों। कहा तो यह भी जा रहा है कि पिछले कई महीनों से शहडोल के दौरे कर रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह आदिवासियों के बीच पैठ बनाने की रणनीति बना रहे हैं । इससे पहले श्री चौहान रणनीति को अंजाम दे पाते कि श्री सिंधिया ने पहले ही बाजी मार ली। बताया जाता है कि सिंधिया ने आदिवासियों का दिल जीतने वाला कदम उठा दिया। उनकी इस पहल को मध्य प्रदेश की राजनीति में दूर की सोच बताई जा रही है।

शहडोल जिले के बड़वाही गांव पहुंचे सिंधिया ने आदिवासी परिवार कुशुम सिंह गौड़ के घर पर ही रात बिताई। यहां सिंधिया ने आदिवासियों के साथ शैला नाच किया, तो रसोई में जाकर रोटियां भी बनाईं। इस मौके पर सिंधिया ने ग्रामीणों को अपने हाथों से भोजन परोसा और उनके साथ बैठकर खाना भी खाया। सिंधिया ने रात्रि विश्राम भी आदिवासी परिवार के यहां किया। उल्लेखनीय है कि भाजपा अक्सर सिंधिया परिवार के लोगों को सामंतवादी सोच वाला बताकर तिरस्कृत करती रही है परंतु ज्योतिरादित्य सिंधिया इस औरे को तोडक़र बाहर निकल रहे हैं। वो आम जनता के बीच सहज ही घुलमिल जाते हैं। याद दिला दें कि शहडोल में आदिवासियों का एक बड़ा वोट है। शिवराज सिंह समेत पूरी भाजपा आदिवासियों के बीच पैठ बनाने की रणनीति पर काम कर रही है।

Updated : 2016-11-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top