Top
Home > Archived > अब एसी कोच में भी सुरक्षित नहीं यात्री

अब एसी कोच में भी सुरक्षित नहीं यात्री

अब एसी कोच में भी सुरक्षित नहीं यात्री

रात में कोच अटेंडर बंद कर लेते हैं दरवाजे



ग्वालियर, न.सं.। ट्रेनों में चोरी व लूट की वारदातों को अंजाम देने वाले बदमाशों के निशाने पर ज्यादातर एसी कोच के यात्री होते हैं क्योंकि एसी कोच में यात्रा करने वाले यात्री बेफिक्र होकर यात्रा करते हैं। इसी का फायदा उठाकर बदमाश एसी कोच में बफिक्र सो रहे यात्रियों का सामान पार कर देते हैं। ट्रेनों में चोरी की सबसे ज्यादा वारदातें रात 12 से सुबह 6 बजे के बीच होती हैं। आपराधिक वारदातें इसलिए भी बढ़ गई हैं क्योंकि एसी कोच में बेडरोल और कैटरिंग सप्लाई का काम रेलवे ने ठेके पर दे रखा है। इसमें निजी कर्मचारी चलते हैं। ये लोग कुछ पैसों के लालच में किसी को भी अपने साथ ट्रेन में ले जाते हैं।

रात में बंद रहते हैं एसी कोच अगर आपको रात के समय ग्वालियर से ट्रेन के एसी कोच में बैठकर लम्बी दूरी की यात्रा करना है तो हो सकता है कि आपको साधारण कोच में ही यात्रा करके जाना पड़े क्योकि कभी-कभी ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर रात के समय ट्रेनों के एसी कोच खुलते ही नहीं हैं। इसके चलते यात्रियों को अधिक पैसे खर्च करने के बाद भी साधारण कोच में जाने पर मजबूर होना पड़ता है। इसी वजह से जीआरपी के जवान भी कोच में गश्त नहीं कर पाते हैं, जिसके चलते आए दिन चोरी की वारदातें बढ़ रही हैं।

अधिकारों की लड़ाई में पिसते हैं यात्री

ट्रेनों की सुरक्षा के लिए रेलवे सुरक्षा बल को तैनात तो किया गया है, लेकिन उनकी हालत बिना गोली की बंदूक जैसी है। रेलवे परिसर में होने वाली आपराधिक वारदातों में आरोपी को पकडक़र जीआरपी के हवाले करना पड़ता है, जहां कई बार प्राथमिकी को टालने के लिए भी पीडि़त और आरोपी के बीच सुलह करा दी जाती है। सूत्रों की मानें तो चोरी का मोबाइल मिलने पर पीडि़त को बताया जाता है कि कोर्ट प्रक्रिया से गुजरने की बजाय बिना शिकायत दर्ज कराए मोबाइल ले जाना बेहतर रहेगा। आरपीएफ को आईपीसी के मामलों में जांच के कोई अधिकारी नहीं हैं।

रात में कर रहे चोरी की वारदातें

ट्रेनों के एसी कोच में चोरी करने वाले गिरोह के सदस्य रात में चलने वाली ट्रेनों को टारगेट कर रहे हैं। टीटीई की निगाहों से बचते हुए गिरोह के सदस्य कोच के अंदर खाली बर्थ पर जाकर बैठ जाते हैं और मौके का फायदा उठाकर यात्रियों के सामान को पार कर देते हैं।

ये हैं चोरी की घटनाएं

* नवम्बर को शिवनारायण की पत्नी का श्रीधाम एक्सप्रेस से मंगलसूत्र लूटा गया।
* नवम्बर को शुभम कुमार का दक्षिण एक्सप्रेस से बैग चोरी हुआ।
* नवम्बर को श्रीगंगानगर-नांदेड़ एक्सप्रेस से रुस्तम राव का बैग चोरी हुआ।

Updated : 2016-11-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top