Home > Archived > नए मुख्य सचिव करेंगे उपचुनाव के बाद प्रदेश में बड़ी प्रशासनिक सर्जरी

नए मुख्य सचिव करेंगे उपचुनाव के बाद प्रदेश में बड़ी प्रशासनिक सर्जरी

भोपाल। मध्यप्रदेश के नए मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह द्वारा प्रदेश में एक लोकसभा और एक विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव के बाद पहली बड़ी प्रशासनिक सर्जरी की तैयारी शुरु कर दी गई है। यह सर्जरी उपचुनाव के तत्काल बाद की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक इसमेें कई प्रमुख सचिव व सचिव स्तर के अधिकारियों के साथ कुछ संभागायुक्तों को भी बदला जाएगा।

दरअसल इसी माह मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव का दायित्व संभालने के बाद से ही श्री सिंह प्रशासनिक कसावट लाने की तैयारी में हैं। उनके द्वारा ऐसे अधिकारियों की सूची तैयार कराई जा रही है जो एक ही विभाग में काफी समय से बैठे हैं। इतना ही नहीं मुख्य सचिव समीक्षा में जिन विभागों की कार्यप्रणाली अपेक्षाकृत कमजोर है उनके प्रमुख सचिव से लेकर सचिव व विभाग प्रमुखों को बदला जाना तय माना जा रहा है। बताया गया है कि पिछले दिनों व्यापक स्तर पर प्रशासनिक फेरबदल होने थे किंतु तब इसे संक्षिप्त फेरबदल में बदल दिया गया था। इसकी वजह थी प्रदेश के नए प्रशासनिक मुखिया की नियुक्ति। उस समय मुख्यमंत्री की भी यही मंशा थी कि नए मुख्य सचिव के मंशानुरुप अधिकारियों की पदस्थापना की जाए।

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने उपचुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले चार भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारियों की नई पदस्थापना की थी, जिसमें उमाकांंत उमराव आयुक्त उच्च शिक्षा तथा पदेन सचिव उच्च शिक्षा एवं परियोजना संचालक राष्ट्रीय उच्च शिक्षा मिशन को कमिश्नर नर्मदापुरम् संभाग बनाया गया था तो एमबी ओझा अपर सचिव स्कूल शिक्षा को संचालक उच्च शिक्षा तथा पदेन अपर सचिव उच्च शिक्षा और परियोजना संचालक राष्ट्रीय उच्च शिक्षा मिशन बनाए गए थे। इनके अलावा अजय कुमार शर्मा कलेक्टर अनूपपुर को अपर मिशन संचालक राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल और आलोक कुमार सिंह क्षेत्रीय प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम इंदौर को कलेक्टर अनूपपुर बनाया गया था किंतु चुनाव आयोग के निर्देश पर राज्य सरकार को अजय कुमार शर्मा को एक बार फिर से अनूपपुर का कलेक्टर बनाना पड़ा, जबकि उनके स्थान पर अनूपपुर भेजे गए आलोक कुमार सिंह को एक बार फिर से उनकी पुरानी पदस्थापना स्थल इंदौर भेज दिया गया है।

Updated : 6 Nov 2016 12:00 AM GMT
Next Story
Top