Top
Home > Archived > कन्नूर में संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या मामले में एनएचआरसी का केरल सरकार को नोटिस

कन्नूर में संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या मामले में एनएचआरसी का केरल सरकार को नोटिस

कन्नूर में संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या मामले में एनएचआरसी का केरल सरकार को नोटिस

नई दिल्ली। केरल राज्य के कन्नूर जिले में माक्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले को लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग(एनएचआरसी) ने केरल सरकार को नोटिस जारी किया है। आयोग ने केरल सरकार को एक सप्ताह के अंदर रिपोर्ट भेजने को कहा है। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय मलयाली संघ (एबीएमएस) ने इन हत्याओं को लेकर एनएचआरसी में एक याचिका दायर की थी। जिसे संज्ञान में लेते हुए आयोग ने केंद्र सरकार के गृह सचिव, केरल के डीजीपी व कन्नूर जिला कलेक्टर को भी नोटिस जारी किया है। देशभर में प्रतिनिधित्व कर रहे एबीएमएस संगठन के महासचिव शिने पी. शशिधर ने अपनी याचिका में केरल, खासकर कन्नूर जिले में माकपा द्वारा किए जा रहे मानवाधिकारों का उल्लंघन के निवारण संबंधी अपील की थी।

श्री शशिधर ने 137 पेज की इस याचिका में केरल में संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं की सिलसिलेवार हत्या व उनके परिजनों को प्रताडऩाएं, संपत्ति तोडफ़ोड़, आदि का विस्तार से वर्णन किया है। मई 2016 में राज्य में माकपा की सरकार गठन के बाद माकपा कार्यकर्ताओं ने 80 संघ व भाजपा कार्यकर्ताओं को शारीरिक क्षति पहुंचाई है जबकि उनके घरों को ध्वस्त किया गया है। याचिका में माकपा कार्यकर्ताओं द्वारा चकारकल व पय्यानूर पुलिस थानों में हमलों का भी जिक्र किया गया है। एलडीएफ सरकार के गठन के बाद अब तक तीन संघ कार्यकर्ताओं की हत्या की गई है। याचिका में केरल में हार्डकोर जिहादी तत्वों को माकपा नेताओं क्षरा संरक्षण प्रदान करने का भी जिक्र किया गया है।

माकपा नेताओं द्वारा अन्य राष्ट्रीय संगठनों को भी संघ कार्यकर्ताओं को प्रताडि़त करने के लिए संरक्षण प्रदान किया जा रहा है। कन्नूर जिले के पुलिस अधीक्षक संजय गरुण के उदाहरण को रखते हुए शशिधर ने याचिका में कहा है कि श्री गरुण माकपा ताकतों के समक्ष नहीं झुके। याचिका में कन्नूर जिले में मारे गए कार्यकर्ताओं को एनएचआरसी से उचित मुआवजे की मांग की गई है। राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था के मद्देनजर आम लोगों की सुरक्षा के लिए कानून को दुरुस्त करने की अपील की गई है। इस याचिका को संज्ञान में लेते हुए आयोग ने केंद्रीय गृह सचिव, केरल के डीजीपी, कन्नूर जिला कलेक्टर व करेल सरकार को नोटिस जारी करते हुए दो सप्ताह के अंदर रिपोर्ट भेजने को कहा है। ध्यान रहे कि कन्नूर में संघ कार्यकर्ताओं व भाजपा कार्यकर्ताओं की सिलसिलेवार हत्या व हिंसा को लेकर हाल ही में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में हुई बैठक में व केरल के कालीकट में भाजपा कार्यकारिणी की बैठक में इस मामले को जोरदार तरीके से उठाया गया था।


Updated : 2016-11-02T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top