Top
Home > Archived > आईटीएम विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह आयोजित

आईटीएम विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह आयोजित

आईटीएम विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह आयोजित

विषमताओं के खिलाफ भी उठानी होगी आवाज

ग्वालियर, न.सं.। केवल डिग्री डिप्लोमा बांटने वाले संस्थानों के रूप में पहचान न बनाएं, बल्कि व्यवस्था पर प्रामाणिक सवाल खड़े करने वाले संस्थान बनें अपना कॅरियर बनाने के साथ-साथ, देश-दुनियां में व्याप्त सामाजिक, आर्थिक विषमता को लेकर भी आवाज उठानी होगी, तभी ये शिक्षा सार्थक मानी जाएगी। यह बात मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित आईटीएम विश्वविद्यालय के कुलाधिपति रमाशंकर सिंह ने शनिवार को आयोजित आईटीएम विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में कही। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में भारत के प्रमुख परमाणु वैज्ञानिक प्रो. गिरजेश मेहता उपस्थित थे।

जबकि विशेष रूप से विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कमलकान्त द्विवेदी, वाइस प्रेसीडेंट रूचि सिंह चौहान, मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. दौलत सिंह चौहान, रजिस्ट्रार डॉ. ओमवीर सिंह उपस्थित थे। कार्यक्रम का शुभारम्भ अकादमिक प्रोसेशन के साथ किया गया। जिसमें शंख और तुरही की मंगल ध्वनि के बीच अतिथियों का मंच पर आगमन हुआ। कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा देश की छह हस्तियों को मानद उपाधियों से विभूषित किया गया, साथ ही पांच को पी.एचडी. उपाधि व प्रायोजित मेडल सहित इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर एप्लीकेशन, बिजनेस एण्ड मेनेजमेंट विज्ञान, आर्ट एण्ड डिजाइन के 350 विद्यार्थियों को गोल्ड मैडल, स्नातक व स्नातकोत्तर की उपाधियां प्रदान की गईं। कायक्रम का संचालन डॉ. अभिषेक त्रिपाठी ने किया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान के साथ किया गया।

इन्हें प्रदान की गईं मानद एवं पीएचडी की उपाधियां

विश्वविद्यालय द्वारा देश की छह हस्तियों को कुलाधिपति रमाशंकर सिंह ने अपने-अपने क्षेत्र में काम करने के लिए मानद उपाधियों से विभूषित किया। जिसमें प्रख्यात फिल्म निर्देशक एवं पटकथा लेखक श्याम बेनेगल, प्रख्यात संगीतकार एवं ग्रेमी अवार्ड विजेता पं. एल. सुब्रमण्यम, लेखक साहित्यकार डॉ. मृदुला गर्ग, प्रख्यात चित्रकार प्रभाकर एम. कोल्टे, प्रख्यात पत्रकार विनोद दुआ एवं मिसाइल वैज्ञानिक टैसी थॉमस को डी.लिट एवं डी.एससी. की मानद उपाधियां प्रदान कीं। जबकि लतिका भाटिया, मुकुल श्रीवास्तव, सौरभ खण्डेलवाल और ब्रजराज शर्मा को पीएचडी की उपाधि से विभूषित किया गया।

इन्हें मिले प्रायोजित मेडल

अशोक गोयल गोल्ड मेडल - मोहित मिश्रा।
द्वारिका प्रसाद अग्रवाल - मधुलिका।
जयचंद मेहता - शिवम सेंगर, अरशद, त्रिभुवन, अभिजीत शुक्ला।
शंकुतला देवी एवं रामदास त्रिपाठी - सुशन कर्माचार्य।
ठाकुर साहेब बछराज राज सिंह राठौर - शर्मिष्ठा बरूआ।
समंदरी देवी जैन (सिल्वर मेडल)- अनुज शर्मा को दिया गया।

इन्होंने कहा

आईटीएम विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की उपाधि पाकर में बेहद खुश और अभिभूत हूं। इस प्यार के लिए में यहां के लोंगों का धन्यवाद ज्ञापित करता हूं। -- श्याम बेनेगल

ग्वालियर वीरों और कलाकारों की भूमि रही है। वह आईटीएम विश्वविद्यालय के नाम से भी जानी जा रही है। यहां से मानद उपाधि पाकर में अभिभूत हूं, यह साहित्य का सम्मान है। -- मृदुला गर्ग

दीक्षांत समारोह में आप सभी को उपाधियंा मिलने की बधाईयां। तिरंगे की छांव में आप अपनी भारतीयता के तले अपनी पहचान बनाए रखना यही कामना है। -- विनोद दुआ, पत्रकार

मैं खुश हूं कि बगैर ऑपरेशन किए डॉ. बन गया खैर, आप सभी को बधाई आप परस्पर प्रेम से रहें द्वेष न करें जो खुद को औरों में और औरों को खुद में पाता है, वह किससे द्वेष करेगा सबकी सुनो और मन की करो। --प्रभाकर एम. कोल्टे

हमें चुनौतियों को स्वीकार करना चाहिए और प्रोफेशनल व पर्सनल लाइफ में बेलेन्स बनाकर चलना चाहिए सफलता जरूर मिलती है। -- टैसी थॉमस

Updated : 2016-10-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top