Top
Home > Archived > बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी

बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी

बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी

ग्वालियर,न.सं.। जिनकी सामथ्र्य निजी नर्सिंग होम में इलाज कराने की नहीं हैं, उनको बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है। ऐसे ही जरूरतमंदों के लिए प्रदेश सरकार ने बिरलानगर अस्पताल में स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ी सौगात दी है। यह बात शुक्रवार को उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने बिरलानगर प्रसूति गृह में न्यू बोर्न स्टेबलाइजेशन यूनिट नवजात शिशु स्थरीकरण इकाई के लोकार्पण अवसर पर कही। यह यूनिट ग्वालियर शहर के सरकारी अस्पतालों में पहली यूनिट है। श्री पवैया ने इस यूनिट के विस्तार के लिए अपनी विधायक निधि से दो लाख रूपए देने की घोषणा भी की। इस मौके पर श्री पवैया ने फीता काटकर एवं विधिविधान से पूजन कर न्यू बोर्न स्टेबलाइजेशन यूनिट का लोकार्पण किया।

उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने कहा कि बिरलानगर में आज से शुरू हुई एनबीएसयू में नवजात शिशुओं का जीवन बचाने के लिए फिलहाल दो बार्मर सहित अन्य उपकरण उपलब्ध है। विधायक निधि से यहां दो अतिरिक्त वार्मर तथा उपकरण मुहैया कराए जाएंगे। उन्होंने कहा कि नाजुक हालत में पैदा हुए शिशुओं के लिए यह यूनिट जीवनदायी साबित होगी। इस अवसर पर डॉ.हरिमोहन पुरोहित, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एच एस जादौन, सिविल सर्जन डॉ. डी डी शर्मा, बिरलानगर अस्पताल के प्रभारी डॉ.अनिल सक्सेना उपस्थित थे।

100 बिस्तर का होगा हजीरा चिकित्सालय

श्री पवैया ने कहा कि ग्वालियर हजीरा क्षेत्र के सरकारी अस्पतालों में जल्द ही नए आयाम जुड़ेगे। उन्होंने कहा जिला चिकित्सालय हजीरा जल्द ही 100 बिस्तर का हो जाएगा। यह अस्पताल तीन मंजिला होगा। इसके निर्माण के लिए लगभग 7 करोड़ रूपए का एस्टीमेट तैयार किया गया है। उन्होंने कहा पिछले बजट सत्र के दौरान तत्कालीन लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने विधानसभा में सिविल हॉस्पिटल हजीरा को 100 बिस्तर का करने का आश्वासन दिया था।

10 दिन के अंदर शुरू होंगी सेवाएं

उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि लधेड़ी अस्पताल में भी अगले 10 दिन के अंदर प्रसूति सेवाएं शुरू हो जाएंगी। श्री पवैया ने जानकारी दी कि सिविल अस्पताल में अब रविवार को छोडक़र सप्ताह के सभी दिनों में अल्ट्रासाउण्ड की सुविधा मुहैया करा दी गई है। साथ ही एक अतिरिक्त एमडी चिकित्सक की तैनाती भी कराई गई है। उन्होंने कहा कि सिविल अस्पताल, बिरलानगर प्रसूति गृह और लधेड़ी अस्पताल में पदस्थ चिकित्सकों व पैरामेडीकल स्टाफ को अब यहां से किसी भी अस्पताल से नहीं जोड़ा जाएगा। इस आशय के स्पष्ट दिशा-निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन को दिए गए हैं। श्री पवैया ने कहा बीपीएल परिवारों की तरह प्रदेश सरकार ने जेसीमिल श्रमिक परिवारों की बिजली, बिल माफी और एक रूपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से राशन मुहैया कराया है।

Updated : 2016-10-29T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top