Top
Home > Archived > सीवेज टैंक ढहने से आधा दर्जन बच्चे गंदगी में समाये

सीवेज टैंक ढहने से आधा दर्जन बच्चे गंदगी में समाये

सीवेज टैंक  ढहने से आधा दर्जन बच्चे गंदगी में समाये

*पांच बच्चे सकुशल निकाले, एक लापता, विप्रा की लापरवाही से सीवेज टैंक ढहा
*विप्रा की लापरवाही से हुए हादसे को लेकर कॉलोनीवासियों में आक्रोश

मथुरा।
विप्रा के इंजीनियर व ठेकेदार की लापरवाही के चलते थाना गोविंद नगर अन्तर्गत महाविद्या कॉलौनी स्थित पार्क में बना सीवेज टैंक ढक्क्न और उस पर बने इंटरलॉकिंग खरंजे सहित बैठ जाने के फलस्वरूप वहां खेल रहे आधा दर्जन बच्चे टैंक में समा गये। पार्क में खेल रहे बच्चों के टैंक में गिरने की सूचना पर हडक़म्प मच गया। आनन फानन में बच्चों को बचाने के प्रयास शुरु किये गये। पांच बच्चों को सकुशल निकाल लिया गया। जबकि एक बच्चे की तलाश देर रात तक जारी थी। उक्त बालक कांग्रेसी नेता का भतीजा बताया जा रहा है। विप्रा के इंजीनियर व ठेकेदार की लापरवाही से हुए हादसे को लेकर क्षेत्रीय लोगों में भारी आक्रोश है।
महाविद्या कालौैनी के फेस 2 स्थित पार्क का मथुरा वृंदावन विकास प्राधिकरण द्वारा सौंदर्यीकरण कराया गया था। गुरूवार की सांय कॉलोनी के आधा दर्जन से अधिक बच्चे पार्क में खेल रहे थे। खेलते समय अचानक सीवेज टैंक की ऊपर लगे पत्थर व उसके ऊपर लगी इंटरलॉकिंग ईटों के भरभरा कर खिसक जाने के फलस्वरूप छ: बच्चे सीवेज टैंक में समा गये जिससे घबराये उनके साथियों ने शोर मचाया तो कॉलोनिवासी वहॉ पहुॅच गये। वहॉ का दृश्य देखकर कालॉनीवासियों के हाथ पैर फूल गये लेकिन कुछ साहसी लोगों ने बचाव कार्य शुरू करने के साथ ही हादसे की सूचना फायर बिग्रेड व इलाका पुलिस को दे दी। सीवेज टैंक में आधा दर्जन बच्चों के समा जाने से कालॉनी में कोहराम मच गया।
आधा घंटे के अथक प्रयास के बाद चार बच्चों को सकुशल निकाल लिया गया जबकि एक बच्चे को निकालने में राहत कार्य में जुटें लोगों को डेढ़ घंटे कड़ी मशक्कत करनी पड़ी वहीं एक बालक का देर रात तक पता नही लगा सका। सीवजे टैंक में तलाशी अभियान देर रात तक जारी चल रहा था। उक्त बालक कांग्रेसी नेता नवीन अस्थाना का भतीजा बताया जा रहा है।
वहीं पार्क में एक महिला पार्थ पार्थ चिल्लाकर बुरी तरह बिलख रही थी जिसे आसपास के लोग ढांढ़स बंधा रहे थे। महिला के पार्थ-पार्थ चिल्लाने से लापता बालक का नाम पार्थ मालूम पड़ता है। समाचार लिखे जाने तक तलाशी अभियान जारी था। हादसे की जानकारी मिलने पर पुलिस व प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गये। मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट रामअरज यादव व सीओ सिटी चक्रपाणि त्रिपाठी ने अपने देखरेख में बचाव कार्य को करवाया। इसके अलावा नगर पालिका की टीम के साथ ही विप्रा के भी अधिकारीगण मौके पर पहुंच गये थे।
बता दें कि उक्त पार्क का सौदर्यीकरण का कार्य विकास प्राधिकरण द्वारा ठेकेदार के माध्यम से कराया गया था। सीवेज टैंक के ढह जाने से विप्रा इंजीनियर व ठेकेदार की लापरवाही का खुलासा हुआ जिससे क्षेत्रीय नागरिकों में विप्रा के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त है। अब यहां यह सवाल उठता है कि पार्क जैसे साफ सफाई वाले स्थान पर सीवेज टैंक का निर्माण कैसे हो गया?

Updated : 2016-10-21T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top