Top
Home > Archived > धूमधाम से मना दशहरा, जगह-जगह जले रावण के पुतले

धूमधाम से मना दशहरा, जगह-जगह जले रावण के पुतले

धूमधाम से मना दशहरा, जगह-जगह जले रावण के पुतले
X



ग्वालियर, न.सं.। शहर में पिछले दस दिनों से मनाए जा रहे नवरात्र उत्सव के बाद मंगलवार को असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक दशहरा पर्व हर्ष उल्लास के साथ धूमधाम से मनाया गया। आज जहां मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन हुआ वहीं विभिन्न संगठनों द्वारा ढोल-नगाड़ों और बैण्ड-बाजों के साथ शहर में चल समारोह निकाले गए। इस दौरान सडक़ों पर जमकर आतिशबाजी की गई। इसके साथ ही जगह-जगह शमी और अस्त्र-शस्त्रों का पूजन भी किया गया तथा बुराई के प्रतीक रावण और आतंकवाद के पुतले जलाए गए। दशहरा पर्व पर मंदिरों में विशेष सजावट और धार्मिक अनुष्ठान सम्पन्न हुए। बड़ी संख्या में पुरुषों, महिलाओं, बच्चों ने सुबह मंदिरों में पहुंच कर पूजा-अर्चना कर सुख-समृद्धि की कामना की। इसके साथ ही घर-घर में भी भगवान की पूजा की गई तथा दुकानों, व्यवसायिक प्रतिष्ठानों, कारखानों में भी व्यवसायियों द्वारा विशेष पूजा-अर्चना की गई। इसके अलावा जगह-जगह पंडालों में स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन का क्रम आज भी जारी रहा। ढोल-ढमाकों और आतिशबाजी के साथ जुलूस निकालकर भक्तों ने सागरताल में मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन किया। इसके बाद हवन-पूजन, कन्या पूजन, धार्मिक अनुष्ठान, भजन-कीर्तन और भण्डारा आदि सम्पन्न हुए।

सभी समाजों का करें सम्मान: तोमर

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के तत्वावधान में मंगलवार को महाराणा प्रताप भवन, कुंज विहार, शताब्दीपुरम में दशहरा मिलन समारोह आयोजित किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने क्षत्रिय समाज से छत्री धर्म निभाते हुए सभी समाजों का सम्मान करने का आह्वान किया। अध्यक्षीय उद्बोधन में उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने भी क्षत्रिय समाज का मार्गदर्शन किया। क्षत्रिय समाज के अध्यक्ष राजेन्द्र भदौरिया ने समाज के लोगों से एकजुट होकर देश के विकास में भागीदार बनने की बात कही। कार्यक्रम में जयसिंह कुशवाह एवं के.पी. सिंह भदौरिया ने भी अपने विचार रखे। स्वागत भाषण महासभा के संभागीय अध्यक्ष बृजेन्द्र सिंह तोमर ने दिया। इस अवसर पर सभी अतिथियों का स्वागत वंदन किया गया। इधर राजपूत हितकारिणी सभा द्वारा राजपूत छात्रावास में आयोजित दशहरा मिलन महोत्सव में सभा के अध्यक्ष संत कृपाल सिंह ने शमी और शस्त्र पूजन किया।

शहर की सडक़ों पर हुआ राम और रावण के बीच युद्ध

रामलीला समारोह समिति द्वारा छत्री मैदान में आयोजित रामलीला में मंगलवार को रावण वध की लीला का मंचन किया गया। इससे पहले शाम को समिति द्वारा निकाले गए दशहरा चल समारोह में शहरवासियों को शहर की सडक़ों पर राम और रावण के बीच रोमांचक युद्ध के दृश्य देखने को मिले। चल समारोह अचलेश्वर मंदिर से प्रारंभ हुआ, जिसमें एक रथ पर राम, लक्ष्मण, हनुमान सवार थे तो दूसरे रथ पर तमाम अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित रावण विराजमान था, जो एक-दूसरे पर बाण चला रहे थे। यह चल समारोह इंदरगंज चौराहा, दाल बाजार, नया बाजार, ऊंट पुल, पाटनकर बाजार, दौलतगंज, सराफा, गश्त का ताजिया, नई सडक़, हनुमान चौराहा, जनकगंज होते हुए रामलीला स्थल छत्री मैदान में पहुंचा, जहां साठ फीट ऊंचे रावण, कुम्भकरण, मेघनाद के पुतलों का दहन किया गया। इस रोमांचक दृश्य को देखने के लिए हजारों की संख्या में नागरिक मौजूद थे।

Updated : 2016-10-12T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top