Top
Home > Archived > सांसद श्री सिंधिया ने लिया कई कार्यक्रमों में भाग, स्टेडियम निर्माण के लिए चल रहे धरने पर बैठे

सांसद श्री सिंधिया ने लिया कई कार्यक्रमों में भाग, स्टेडियम निर्माण के लिए चल रहे धरने पर बैठे

स्टेडियम की स्वीकृति को लेकर खेल मंत्री बुआ यशोधरा राजे से जुड़े सवालों पर बोले भतीजे सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया

परिवार से जुड़े मुद्दे को परिवार में ही रहने दें
गुना। मैं समझ रहा हूँ, आप बात को किस दिशा में ले जाना चाहते है, किन्तु मैं उस दिशा में नहीं जाऊंगा। वो मुद्दा परिवार से जुड़ा है, उसे परिवार में ही रहने दें। मैं अपने पूज्य पिताजी (स्व. माधवराव सिंधिया) का अनुशरण करता हूँ, उन्होने कभी इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की, मैं भी नहीं करुंगा। यह बात स्टेडियम निर्माण की स्वीकृति को लेकर अपनी बुआ खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से जुड़े सवालों पर उनके भतीजे क्षेत्रीय सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कही। श्री सिंधिया अपने तीन दिवसीय दौरे के दूसरे दिन आज सर्किट हाउस में पत्रकारों से औपचारिक चर्चा कर रहे थे। इस दौरान जब श्री सिंधिया से सवाल किया गया कि खेल मंत्री उनकी बुआ होने के बावजूद स्टेडियम निर्माण की अनुमति क्यों जारी नहीं हो रही है? कहीं बात पारीवारिक तो नहीं? तब श्री सिंधिया ने ऊपर लिखी बात कहीं।
लिख चुका हूँ, तीन-तीन चिट्ठी
श्री सिंधिया ने कहा कि स्टेडियम निर्माण की अनुमति को लेकर वह खेल मंत्री को तीन-तीन चिट्ठी लिख चुके है, किन्तु कोई संतुष्टिजनक जवाब नहीं मिला। क्या मुलाकात की कोशिश की? के सवाल का श्री सिंधिया ने स्पष्ट जवाब नहीं दिया और चिट््ठी लिखने की बात दोहराते रहे। पत्र मुख्यमंत्री को लिखने की बात भी श्री सिंधिया ने कहीं। श्री सिंधिया ने कहा कि आपका पत्र मिला का जवाब आता रहा है और कोई बात नहीं हुई। मुख्यमंत्री से मुलाकात के सवाल पर श्री सिंधिया ने कहा कि शायद वह बहुत ज्यादा व्यस्त है, इसलिए मिलने का समय नहीं निकाल पा रहे है।
भाजपा नेताओं पर पश्चिमी सोच हावी
जेब में कैंची और फीता रखकर घूमने के प्रभारी मंत्री गोपाल भार्गव के बयान को लेकर श्री सिंधिया ने कहा कि उन्हे आश्चर्य है कि हिन्दुत्व की बात करने वाली भाजपा के नेता को कैंची और फीता याद रहा, नारियल भूल गए। यह बताना है कि उन पर अब पश्चिमी सोच हावी हो रही है। श्री सिंधिया के मुताबिक 13 साल में भाजपा नेताओं ने ग्वालियर-चंबल संभाग को कुछ नहीं दिया, अगर दिया होता? तो वह भी कैंची और फीता रखकर घूमते और लोकार्पण, भूमिपूजन करते। उन्होने कहा कि जो विकास करेंगा वह भूमिपूजन और लोकार्पण भी करेगा। भाजपा नेता फ्रस्टेड हो गए है, इसलिए उनकी हमदर्दी भाजपा नेताओं के साथ है।
जीएसटी बिल, भाजपा का मायाजाल
वर्तमान जीएसटी बिल को श्री सिंधिया ने भाजपा का मायाजाल बताते हुए कहा कि भाजपा अर्थशास्त्र के आधार पर अपना मायाजाल फैला रही है। श्री सिंधिया ने कहा कि जीएसटी को लेकर कांग्रेस की तीन शर्ते है, अगर वह पूरी होती है तो जीएसटी बिल पारित हो जाएगा। पूर्व सांसद लक्ष्मण सिंह के सुझाव ज्योतिरादित्य, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह साथ में दौरे करें तो कांग्रेस के लिए बेहतर रहेगा के सवाल पर श्री सिंधिया ने कहा कि वह सहमत है और उसके लिए दिग्विजय सिंह से चर्चा भी करेंगे। मुख्यमंत्री उम्मीद्वार होने के सवाल को श्री सिंधिया टाल गए।

Updated : 2016-01-22T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top