Top
Home > Archived > हार के बदले ली थी जान

हार के बदले ली थी जान

10 वर्षीय बच्चे की हत्या मामले का खुलासा

अशोकनगर | घर से अंटी खेलने निकले 10 वर्षीय बालक की हत्या मामले मेें पुलिस आरोपी तक पहुंच गई है। मामले का खुलासा गुरुवार को कंट्रोल रूम में पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह गौर ने किया। उन्होंने पत्रकारों को बताया कि इस हत्या मामले में दोषी मृतक के साथ अंटी खेल रहा था। और खेल के दौरान हार से वह आहत था। इस कारण से उसने गजराम की पत्थर मारकर हत्या कर दी थी। श्री गौर ने बताया कि घटना एक सप्ताह पहले कचनार थाना क्षेत्र के ग्राम शहवाजपुर की है। जहां नीलम आदिवासी के 10 वर्षीय बालक गजराम की सिर पर पत्थर मारकर किसी अज्ञात आरोपी ने हत्या कर दी थी। बाद में मृतक का शव पुलिस ने एक खण्डहरनुमा भवन से बरामद कर जांच शुरू की थी। जिसमें पुलिस ने घटना के दिन मृतक के साथ रहने वाले बच्चों से पूछताछ की तो पुलिस पता चला कि मृतक गजराम और देवेन्द्र आदिवासी साथ-साथ खेल रहे थे। जबकि देवेन्द्र ने पुलिस को बताया कि वह तो सो रहा था। यहीं से पुलिस का शक और बढ़ गया। जब नाबालिग 15 वर्षीय आरोपी देवेन्द्र से पूछताछ की तो उसने बताया कि गजराम से वह अंटी खेलने में बार-बार हार जाता था। घटना के दिन भी वह उससे हार गया था। जिस पर से विवाद हुआ और बाद में उसे खेलने के बहाने बुलाकर खण्डहर मकान मेंं ले गया जहां सिर में पत्थर मार दिया। जिससे गजराम की मौत हो गई। घटना की जानकारी आरोपी ने घर पर अपनी भुआ को दी। जहां भुआ ने कपड़ों पर लगे खून के निशान मिटाने के लिए कपड़ों की धुलाई कर दी। पुलिस ने आरोप में कार्रवाई करते हुए आरोपी की बुआ पर भी साक्ष्य छुपाने का प्रकरण दर्ज किया। इस मौके पर कंट्रोल रूम में एसडीओपी एसएस तोमर, टीआई आरबीएस सिकरवार और कचनार थाना प्रभारी अशोक जोशी भी उपस्थित थे।
आरोपी बुआ के घर रहता था:
पुलिस के मुताबिक नाबालिग गजराम आदिवासी की हत्या में आरोपी देवेन्द्र आदिवासी टकनेरी का रहने वाला है। वह शहवाजपुर में अपनी बुआ के घर रह रहा था। यहां वह बच्चों के साथ रहकर खेलता रहता था।

Updated : 2015-08-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top