Top
Home > Archived > हाजिरी के लिए कर्मचारियों ने लगाया अंगूठा

हाजिरी के लिए कर्मचारियों ने लगाया अंगूठा

*विज्ञान महाविद्यालय में लगी बायोमेट्रिक मशीन *ऑनलाइन हाजिरी में अंचल का पहला महाविद्यालय बना

ग्वालियर। कर्मचारियों की हाजिरी के लिए शासकीय विज्ञान महाविद्यालय में बायोमेट्रिक मशीन लगा दी गई है। सोमवार को इसी मशीन पर अंगूठा लगाकर शिक्षकों एवं कर्मचारियों ने अपनी हाजिरी दर्ज कराई। यह मशीन लगने से अब कर्मचारियों और शिक्षकों के देरी से आने पर लगाम लगेगी।
उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सभी शासकीय महाविद्यालयों में बायोमेट्रिक मशीन से हाजिरी लगाने के आदेश जारी करने बाद सोमवार को विज्ञान महाविद्यालय में प्राचार्य, शिक्षकों व कर्मचरियों ने सुबह अपने निर्धारित समय से पहले पहुंचकर बायोमेट्रिक मशीन पर अंगूठा लगाकर अपनी हाजिरी दर्ज कराई, जिसमें 80 प्रतिशत लोगों की हाजिरी दर्ज हो सकी। इस व्यवस्था को आधारकार्ड से भी लिंक किया गया है, लेकिन जिन लोगों के आधार लिंक नहीं थे, उनकी हाजिरी मैन्यूल तरीके से ही लगाई गई। सोमवार को पहला दिन होने के कारण सभी शिक्षक व कर्मचरी 10 बजे ही महाविद्यालय में पहुंच गए। इस दौरान हाजिरी लगाने के लिए शिक्षकों की लम्बी कतार लग गई। अब कर्मचारियों को प्रात: 10.15 से 10.30 एवं शाम को 5.15 से 5.30 बजे तक दो बार अपनी हाजिरी दर्ज कराना होगी।
कम्पूयटर विभाग के के.के. पाराशर ने बताया कि महाविद्यालय में पांच मशीनें लगाई गई हंै। यहां लगाई गई हाजिरी सीधे भोपाल एनआईसी में दर्ज होगी। बायोमेट्रिक मशीन से ऑनलाइन हाजिरी की व्यवस्था शुरू करने वाला विज्ञान महाविद्यालय अंचल का पहला महाविद्यालय बन गया है। अभी तक कोई और महाविद्यालय ऐसा नहीं कर पाया है।
उल्लेखनीय है कि उच्च शिक्षा विभाग ने शासकीय कॉलेजों में बायोमेट्रिक मशीनों का हर हाल में आठ जुलाई तक इंस्टॉलेशन करने के लिए कहा था, जिसका विधिवत संचालन 10 जुलाई से करना था, लेकिन अभी तक सिर्फ अंचल के विज्ञानम महाविद्यालय में ही बायोमेट्रिक से हाजिरी लगाने की व्यवस्था की गई है। शेष महाविद्यालय उच्च शिक्षा विभाग के आदेश का पालन नहीं कर रहे हैं।

Updated : 2015-08-25T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top