Home > Archived > पांच आदिवासी बालिकाओं का कराया शाला प्रवेश

पांच आदिवासी बालिकाओं का कराया शाला प्रवेश

शिवपुरी। भारत विकास परिषद की वीर तात्याटोपे शाखा ने वनवासी सहायता एवं ग्राम बस्ती विकास योजना के तहत गोद लिए गए आदिवासी ग्राम नीम डांडा में अपने सेवा प्रकल्प के तहत कार्य प्रांरभ कर दिए गए हैं। ग्राम में सप्ताह एवं पाक्षिक रूप से सदस्य टीम गांव में पहुंचकर आदिवासी महिला पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर ग्राम विकास हेतु कार्य को अंजाम दे रहे हैं।
शाखा द्वारा पूर्व में लिए गए गांव की पांच आदिवासी बालिकाओं की कक्षा नौ में शिक्षा दीक्षा की जिम्मेदारी का पूर्ण निर्वहन करते हुए शिवपुरी के शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्रवेश दिलाया गया। इस हेतु बालिकाओं की शिक्षा शुल्क एवं अन्य व्यवस्थाएं शाखा द्वारा स्वयं व्यय कर पूर्ण की गईं हैं। वीर तात्याटोपे शाखा के अध्यक्ष इंजी. के.बी. चतुर्वेदी, सचिव योगेश अग्रवाल, कोषाध्यक्ष राज कुमार सिंघल, संरक्षक सुरेश कुमार बंसल, हरिओम अग्रवाल, अनिल कुमार अग्रवाल, राजकुमार मंगल, अशोक जैन, अरविन्द जैन, दीपक अग्रवाल के समक्ष ग्राम नीम डांडा को गोद लेने के समय ग्राम में चर्चा के दौरान सामने आया था कि ग्राम की पांच बालिकाएं धनवंती पुत्री रामसिंह, गुन्जा पुत्री भैयालाल, रवीना पुत्री फैलीराम, काजल पुत्री टुण्डाराम और रवीना पुत्री माखन आदिवासी ने आठवीं कक्षा उत्तीर्ण कर ली है किन्तु पढ़ाई के प्रति जागरूक होने के बावजूद साधनों एवं आर्थिक अभाव के कारण वे आगे नहीं पढ़ पा रही हैं।
छात्रावास में प्रवेश हेतु प्रक्रिया जारी : ग्राम नीम डांडा की पांचों आदिवासी छात्राओं द्वारा वीर तात्याटोपे शाखा के पदाधिकारियों को अवगत कराया गया कि वे स्वयं पढऩा चाहती हैं किन्तु ग्राम से शिवपुरी प्रतिदिन आने जाने में परेशानी होगी। अत: यदि उनका छात्रावास में प्रवेश दिला दिया जाए तो बहुत अच्छा रहेगा। छात्राओं की शिक्षा के तहत मांग अनुसार पांचों आदिवासी बालिकाओं का आदिम जाति कन्या छात्रावास मंगल भवन कमलागंज में प्रवेश प्रक्रिया पूर्ण कराई। छात्रावास अधीक्षिका ने बताया कि उक्त फाइल जिलाधीश के समक्ष गई है।
उनकी स्वीकृति उपरान्त उक्त छात्राओं को छात्रावास में प्रवेश दे दिया जाएगा।

Updated : 2015-07-27T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top