Top
Home > Archived > दूषित भोजन से आधा सैकड़ा बीमार

दूषित भोजन से आधा सैकड़ा बीमार



शिवपुरी। एबी रोड क्षेत्र के एक होटल में आयोजित विवाह समारोह में बुधवार की रात भोजन करने के बाद लगभग आधा सैकड़ा लोगों को सोते समय अपने घरों पर उल्टी-दस्त, पेट में दर्द एवं चक्कर आने की शिकायत पर रात्रि में करीब साढ़े 12 बजे से कोलारस के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर मरीजों के आने का सिलसिला शुरू हुआ, जो रुक-रुककर रात भर चलता रहा। गनीमत यह रही कि दर्द से कराहते लोगों को समय पर इलाज मिल गया, जिससे चंद घंटों में ही उनमें उनके में सुधार आ गया और गुरुवार सुबह तक सभी मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।
जानकारी के अनुसार बुधवार की रात एबी रोड स्थित मैरिज गार्डन में अन्ना सिंघई के पुत्र एवं गोपाल ठेकेदार की पुत्री के विवाह समारोह में बड़ी संख्या में लोगों ने शामिल होकर भोजन किया। बताया गया है कि समारोह में कच्चे-पक्के भोजन के अलावा, इडली, डोसा, मैगी, चाऊमीन से लेकर आधा दर्जन से अधिक मिठाइयां, चाट आदि बनाए गए थे। बताते हैं कि समारोह में कई मेहमान तो परिवार सहित आए थे। जैसे ही भोजन करने के बाद मेहमान अपने-अपने घरों पर पहुंचे और विश्राम के लिए लेटे वैसे ही अचानक उल्टियों के साथ-साथ तेज पेट दर्द होने लगा और फिर रात्रि साढ़े 12 बजे से पीडि़तों का आना कोलारस अस्पताल में शुरू हुआ और आधा-आधा घण्टे के अंतराल से यह क्रम रात भर चलता रहा। अस्पताल जाकर जायजा लिया तो मरीजों व अटेण्डरों से अस्पताल खचाखच भरा हुआ था।
एक मरीज के साथ दो-दो अटेण्डर नजर आए। पलंगों की कमी होने पर कुछ मरीजों को जमीन पर बिस्तर लगाकर ड्रिप लगाई जा रही थी। अस्पताल प्रशासन की सजगता एवं तत्परता के चलते सभी रोगियों को समय पर दर्द की दवा उपलब्ध हो जाने से सुबह तक सभी की तबियत में सुधार हो गया और अपने-अपने घरों को चले गए।

शिवपुरी, ब्यूरो। एबी रोड क्षेत्र के एक होटल में आयोजित विवाह समारोह में बुधवार की रात भोजन करने के बाद लगभग आधा सैकड़ा लोगों को सोते समय अपने घरों पर उल्टी-दस्त, पेट में दर्द एवं चक्कर आने की शिकायत पर रात्रि में करीब साढ़े 12 बजे से कोलारस के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर मरीजों के आने का सिलसिला शुरू हुआ, जो रुक-रुककर रात भर चलता रहा। गनीमत यह रही कि दर्द से कराहते लोगों को समय पर इलाज मिल गया, जिससे चंद घंटों में ही उनमें उनके में सुधार आ गया और गुरुवार सुबह तक सभी मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।
जानकारी के अनुसार बुधवार की रात एबी रोड स्थित मैरिज गार्डन में अन्ना सिंघई के पुत्र एवं गोपाल ठेकेदार की पुत्री के विवाह समारोह में बड़ी संख्या में लोगों ने शामिल होकर भोजन किया। बताया गया है कि समारोह में कच्चे-पक्के भोजन के अलावा, इडली, डोसा, मैगी, चाऊमीन से लेकर आधा दर्जन से अधिक मिठाइयां, चाट आदि बनाए गए थे। बताते हैं कि समारोह में कई मेहमान तो परिवार सहित आए थे। जैसे ही भोजन करने के बाद मेहमान अपने-अपने घरों पर पहुंचे और विश्राम के लिए लेटे वैसे ही अचानक उल्टियों के साथ-साथ तेज पेट दर्द होने लगा और फिर रात्रि साढ़े 12 बजे से पीडि़तों का आना कोलारस अस्पताल में शुरू हुआ और आधा-आधा घण्टे के अंतराल से यह क्रम रात भर चलता रहा। अस्पताल जाकर जायजा लिया तो मरीजों व अटेण्डरों से अस्पताल खचाखच भरा हुआ था।
एक मरीज के साथ दो-दो अटेण्डर नजर आए। पलंगों की कमी होने पर कुछ मरीजों को जमीन पर बिस्तर लगाकर ड्रिप लगाई जा रही थी। अस्पताल प्रशासन की सजगता एवं तत्परता के चलते सभी रोगियों को समय पर दर्द की दवा उपलब्ध हो जाने से सुबह तक सभी की तबियत में सुधार हो गया और अपने-अपने घरों को चले गए।
दाल में छिपकली गिरी, इडली-डोसा या मैगी खराब थी
विवाह समारोह के दौरान भोजन करने से तबियत बिगडऩे के पीछे जितने मुंह उतनी बातें सामने आ रही हैं। लोगों का कहना है कि रसोई घर में रात्रि के समय बनाई गई दाल जब खुले में रखी थी, तब उसमें दीवार के ऊपर से एक छिपकली आकर गिर पड़ी। कुछ लोगों का तर्क है कि इडली-डोसा, मैगी खराब थी, उसमें स्वाद नहीं था या फिर चटनी दूषित थी और जिसने भी इडली-डोसा व मैगी का स्वाद चखा, उसे ही यह शिकायत हुई। तबियत बिगडऩे वालों में तीन वर्ष के बच्चे से लेकर अधिकतर युवा शामिल हैं, जिनमें एक ही परिवार के तीन से चार सदस्य तक हैं। अस्पताल सूत्रों के अनुसार भोजन में कोई जीव जंतु गिर जाने पर भोजन आंशिक रूप से जहरीला हो जाता है। हो सकता है कि रसोई घर में रखे भोजन में ऐसा कुछ हुआ हो, मगर यह जांच का विषय है।
एक चिकित्सक ने रात भर संभाली व्यवस्था
सूत्रों के अनुसार कोलारस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ तीन चिकित्सकों में से डॉ. विवेक शर्मा का तीन जून को विवाह होने के कारण वह विगत चार दिन से अवकाश पर हैं और दूसरे डॉ. कल्पित अग्रवाल उनके विवाह में शामिल होने के लिए गए हुए हैं। ऐसे में अस्पताल में इकलौते चिकित्सक बीएमओ डॉ. नीतराज गौड़ को फूड प्वाइजनिंग की घटना के समय रात भर चौकन्ने होकर व्यवस्था संभालना पड़ी। डॉ. गौड़ की कार्यकुशलता के चलते पीडि़तों की स्थानीय स्तर पर ही तबियत ठीक हो गई और रैफर करने की जरूरत नहीं पड़ी।

ये हुए बीमार

विवाह समारोह में भोजन करने से जिन लोगों की तबियत बिगड़ी, उनमें राहुल पुत्र ओमप्रकाश गोयल उम्र 15 वर्ष, राहुल पुत्र जुगलकिशोर (20), सक्षम पुत्र ओमप्रकाश गोयल (18), अमन पुत्र ओमप्रकाश (20), ओमप्रकाश पुत्र पिंटूलाल (48), गौरी पुत्री अनिल अग्रवाल (6 वर्ष), वंदना पुत्री आनंद गुप्ता (3 वर्ष), पप्पू पुत्र लक्ष्मण (27), गोलू पुत्र रामस्वरूप (22), राधा पत्नी गोपाल (48 वर्ष), प्रीति पत्नी जगदीश (30 वर्ष), राम पुत्र माना (33 वर्ष), शीला पत्नी रामजीलाल, लक्ष्मी, हरीलाल, रणवीर, रक्षा, भूमी, देवेन्द्र आदि शामिल हैं। इनके अलावा संजय, रोहित, गोलू, विजय, रिषभ सहित अन्य लोग शामिल हैं। फूड प्वाइजनिंग का शिकार बने कुछ युवकों ने बताया कि खाना खाने के बाद घर पर जब उल्टियां होने की शिकायत के साथ-साथ पेट में भारीपन महसूस हुआ, तब उन्होंने छतों पर चहलकदमी शुरू की तो कुछ ही समय में सब कुछ ठीक हो गया।

Updated : 2015-06-05T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top