Top
Home > Archived > हत्या के मामले में: पिता सहित तीन पुत्रों को आजीवन कारावास

हत्या के मामले में: पिता सहित तीन पुत्रों को आजीवन कारावास

अंबाह के अपर सत्र न्यायाधीश ने सुनाया फैसला
मुरैना। पोरसा थाना क्षेत्र के ग्राम गिदौली में गाली देने से मना करने पर कट्टों से फायर एवं पथराव करते हुये पिता व तीन पुत्रों ने मिलकर जगदीश पुत्र श्रीलाल शर्मा 52 वर्ष की हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या का प्रयास व हत्या का मामला दर्ज कर जांच के बाद न्यायालय में चालान प्रस्तुत किया। अम्बाह के अपर सत्र न्यायाधीश पीसी गुप्ता ने सभी चार आरोपियों के खिलाफ दोष सिद्ध पाते हुये आजीवन कारावास की सजा के साथ 1 लाख के अर्थदण्ड से दण्डित किया। अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक रामनिवास सिंह तोमर ने पैरवी की।
अभियोजन के मुताबिक 30 नवम्बर 13 को रात्रि के 7.30 बजे महावीर पुत्र जगदीश शर्मा 30 वर्ष ग्राम गिदौली मेें घर के बाहर रखी अपनी परचूने की गुमठी में बैठा हुआ था। घर के चबूतरे पर महावीर के पिता जगदीश शर्मा उसकी पत्नी सपना व बहन रूबी बैंठी थी। इसी समय आरोपी हरिओम पुत्र छोटेलाल शर्मा 55 वर्ष निवासी गिदौली वहां आया और जगदीश के साथ गाली-गलौज करने लगा, जब गाली देने से मना किया तो हरिओम अपने बेटे विमल 23 वर्ष, विनीत 21 वर्ष व सत्यप्रकाश 18 वर्ष के साथ कट्टों से लैस होकर आ गया और पथराव के साथ फायरिंग शूरू कर दी। आरोपी विमल ने कट्टे से गोली चलाई वह जगदीश पुत्र श्रीलाल की जांघ में लगी और वह गंभीर रूप से घायल हो गया। फरियादी महावीर सहित उसके अन्य परिजनों को चोटें आईं, आरोपी घटना के बाद मौके से भाग गये।
महावीर अपने घायल पिता जगदीश पुत्र श्रीलाल को लेकर पोरसा थाने पहुंचा और वहां जाकर सभी चारों आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जिस पर से पुलिस ने भादस की धारा 307, 294, 336/34 के अन्तर्गत प्रकरण दर्ज किया। उपचार के दौरान जगदीश पुत्र श्रीलाल की मौत हो गई। पुलिस ने विवेचना में धारा 302, 34 का इजाफा करते हुये विवेचना के पश्चात चालान न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। अपर सत्र न्यायाधीश पीसी गुप्ता की अदाल में अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक श्री तोमर ने प्रकरण से संबंधित साक्ष्य उपलब्ध कराने के साथ आरोपियों को दोषी ठहराते हुये उन्हें कड़ी सजा देने की मांग की। न्यायाधीश श्री गुप्ता ने हरिओम व उसके लड़के विमल, विनीत व सत्यप्रकाश के खिलाफ दोष सिद्ध पाते हुये धारा 302/34 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई। न्यायाधीश ने सभी चार आरोपियों पर 25-25 हजार का अर्थदण्ड करते हुये कुल 1 लाख की राशि में से 75 हजार रूपये मृतक जगदीश के परिजनों को दिये जाने के आदेश पारित किये।
दुर्घटना के मामले में सुनाई एक वर्ष की सजा बहाल
अम्बाह के अपर सत्र न्यायाधीश पीसी गुप्ता ने अधीनस्थ न्यायालय अम्बाह के न्यायाधीश सुधीर सिंह ठाकुर द्वारा दुर्घटना के एक प्रकरण में आरोपी ट्रक चालक बबलू पुत्र सलीम खॉ निवासी नाला नम्बर 2 तपसी बाबा की गुफा के पास मुरैना को सुनाई गई 1 वर्ष की सजा को खारिज करने की अपील निरस्त करते हुये उसकी सजा को वहाल करने का आदेश पारित किया। दुर्घटना के इस मामले में आरोपी ट्रक चालक ने अम्बाह-मुरैना रोड पर 27 जून 2012 को गोठ थाना दिमनी निवासी दो लोगों को टक्कर मारकर घायल कर दिया था, जिसमें से एक रामनिवास राठौर की मौत हो गई। जेएमएफसी न्यायालय अम्बाह सुधीर सिंह ठाकुर ने आरोपी बबलू को 29 सितम्बर 15 को 1 वर्ष की सजा सुनाई थी, इस सजा के विरूद्ध बबलू ने अपर सत्र न्यायाधीश श्री गुप्ता के न्यायालय में अपील दाखिल की, जिसे सुनवाई के पश्चात न्यायाधीश ने शनिवार को खारिज कर दिया।

Updated : 2015-12-17T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top