Home > Archived > पूर्व टीआई की मुसीबतें और बढ़ी

पूर्व टीआई की मुसीबतें और बढ़ी

न्यायालय ने एक और प्रकरण दर्ज करने का दिया आदेश

ग्वालियर। इन्द्रवीर सिंह भदौरिया के परिवाद पर सुनवाई करते हुए प्रथम श्रेणी न्यायिक दण्डाधिकारी आदेश कुमार जैन ने जनकगंज थाने के तत्कालीन टीआई निर्मल कुमार जैन और उप-निरीक्षक नागेन्द्र सिंह भदौरिया के विरुद्ध एक और मामला दर्ज करने का आदेश दिया है साथ ही दोनों अभियुक्तों को पांच-पांच सौ रुपए के जमानती वारंट से तलब किया है।
दोनों पुलिसकर्मियों के विरुद्ध लोकायुक्त पुलिस ने पहले से ही रिश्वत मांगने के अपराध में मामला दर्ज कर रखा है जबकि दूसरा मामला दो लोगों को तीन दिन तक थाने में अवैध निरोध में रखने के कारण दर्ज किया गया है। न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि दोनों आरोपियों के विरुद्ध कार्यवाही करने के पर्याप्त आधार हैं। साक्ष्य और दस्तावेजों से स्पष्ट है कि उन्होंने दो लोगों को अवैध निरोध में रखा। न्यायालय ने ये भी कहा कि चूंकि आरोपीगण का कृत्य लोकसेवक का कृत्य नहीं है, ऐसे में उनके खिलाफ अलग से अभियोजन की स्वीकृति की आवश्यकता नहीं है।

ये है मामला
इन्द्रवीर ने परिवाद प्रस्तुत करते हुए कहा कि उसके भांजे रामजी कुशवाह और भतीजे लला भदौरिया को बिना किसी कारण के पुलिस वाले जनकगंज थाने ले गए। जब वे पूछताछ के लिए पहुंचे तो टीआई निर्मल कुमार जैन ने रामजी को पूछताछ के लिए रोक लिया और लला से कहा कि यदि छूटना है तो दो लाख रुपए की व्यवस्था कर लो। दो लाख रुपए मांगने की शिकायत लोकायुक्त से की गई। वर्तमान में उक्त मामला विशेष अदालत में चल रहा है। इस मामले में एएसपी द्वारा की गई जांच की रिपोर्ट भी न्यायालय में पेश की गई है जिसमें ये पाया गया है कि 5 अक्टूबर से नो अक्टूबर 2013 तक लला को तथा तीन से नौ अक्टूबर 2013 तक रामजी को थाने में अनावश्यक रूप से बंद रखा गया।

Updated : 2015-12-12T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top