Home > Archived > दो रुपए की 'चिप' से लाखों की बिजली चोरी

दो रुपए की 'चिप' से लाखों की बिजली चोरी

अकेले प्रगति विहार से जब्त किए सवा सौ विद्युत मीटर


ग्वालियर। बिजली चोरी करने वालों की नई-नई युक्तियों ने विद्युत वितरण कम्पनी की नींद उड़ा रखी है। वर्तमान में लोग विद्युत मीटरों को बाईपास कर या उसमें रजिस्ट्रेंस (चिप) लगाकर बिजली चोरी कर रहे हैं। पिछले 15 दिनों में केवल प्रगति विहार से ही करीब सवा सौ विद्युत मीटर जब्त किए गए हैं, जिनमें से अधिकांश विद्युत मीटरों में रजिस्ट्रेंस (चिप) लगे पाए गए हैं।
पूर्व में शहर के अधिकांश इलाकों में एलटी विद्युत लाइनों पर सीधे तार डालकर बिजली चोरी की जाती थी, लेकिन अब चूंकि सभी एलटी लाइनों पर खुले तारों को हटाकर उनकी जगह केबल डाल दी गई हैं, लेकिन बिजली चोरी करने वाले भी कम नहीं हैं। वे भी अब हाईटेक हो गए हैं, जो नए-नए फार्मूलों का इस्तेमाल कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार अधिकांश लोगों ने अपने विद्युत मीटरों में बाजार में दो से पांच रुपए में मिलने वाली रजिस्ट्रेंस (प्रतिरोधक चिप) लगा रखे हैं, जिसके माध्यम से वे बिजली चोरी कर विद्युत वितरण कम्पनी को हर माह लाखों की चपत लगा रहे हैं। बताया गया है कि रजिस्ट्रेंस लगाने से विद्युत मीटर की गति काफी धीमी हो जाती है और वह रीडिंग कम बताता है, जिससे बिल भी कम ही आता है। इसके अलावा शहर में विद्युत मीटरों को बाईपास करके बिजली चोरी के मामले भी कम नहीं हैं। बाईपास यानीकि विद्युत मीटर को जोडऩे वाले तार से लाइन खींचकर बिजली चोरी की जाती है। इससे मीटर घूमना बंद हो जाता है।
निशाने पर प्रगति विहार:- मुरार जोन के अंतर्गत गोला का मंदिर स्थित प्रगति विहार इन दिनों विद्युत वितरण कम्पनी के टारगेट पर है। बताया गया है कि इस बस्ती के उपभोक्ताओं के विद्युत मीटर में पिछले कुछ महीनों से बहुत कम खपत दर्ज हो रही थी।
इस पर अधिकारियों का माथा ठनका तो कम्पनी के सतर्कता विभाग के अधिकारियों को जांच के लिए भेजा गया। इन अधिकारियों ने दल-बल के साथ जब प्रगति विहार पहुंचकर एक के बाद एक विद्युत मीटरों की जांच की तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं।
जांच के दौरान इस बस्ती में कई विद्युत मीटरों में छेड़छाड़ पाई गई। इसके बाद से ही कम्पनी के सतर्कता दल द्वारा अभियान के रूप में प्रतिदिन प्रगति विहार और उससे लगे कृष्णा विहार व कैलादेवी कॉलोनी में विद्युत मीटरों की जांच की जा रही है। पिछले 15 दिनों में यहां से संदेह के आधार पर करीब 125 विद्युत मीटर जब्त किए जा चुके हैं।
इनमें से कई मीटरों की रोशनीघर स्थित लैब में जांच कराई गई तो इनमें से अधिकांश मीटरों में रजिस्टें्रस लगे पाए गए तो कुछ मीटर बाईपास थे।

कार्रवाई से बचने जलाए विद्युत मीटर
चंूकि विद्युत वितरण कम्पनी का सतर्कता दल आए दिन प्रगति विहार सहित आसपास की बस्तियों में विद्युत मीटरों की जांच के लिए पहुंच रहा है, इसलिए कार्रवाई से बचने के उद्देश्य से लोग अब अपने विद्युत मीटर जलाने लगे हैं, लेकिन इससे भी बात नहीं बनी क्योंकि लैब में जांच कराने पर जले हुए विद्युत मीटरों में की गई छेड़छाड़ भी पकड़ में आ गई। इसके चलते अब लोगों ने अपने विद्युत मीटर गायब करना शुरू कर दिए हैं। चैकिंग के दौरान प्रगति विहार में विद्युत मीटर गायब करने के दो मामले सामने आए हैं। इस पर संबंधित जोन के प्रभारी अधिकारी (सहायक यंत्री) को उक्त दोनों उपभोक्ताओं के खिलाफ पुलिस में प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं।

इनका कहना है
पिछले 15 दिनों में प्रगति विहार से करीब सवा सौ विद्युत मीटर जब्त किए गए हैं। इनमें से अधिकांश मीटरों में रजिस्ट्रेंस लगे पाए गए हैं। इन सभी के खिलाफ विद्युत अधिनियम की धारा 140 के तहत प्रकरण दर्ज कर जुर्माना वसूली की कार्रवाई की जा रही है। प्रगति विहार और उसके आसपास की बस्तियों में मीटरों को चैक करने का यह अभियान आगे भी जारी रहेगा।
एस.के. श्रीवास्तव
उप महाप्रबंधक, सतर्कता
विद्युत वितरण कम्पनी, ग्वालियर

Updated : 2015-11-08T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top