Home > Archived > पार्सल कार्यालय में सांठगांठ का खेल

पार्सल कार्यालय में सांठगांठ का खेल

अवैध रुप से रखा लीज होल्डरों का माल

ग्वालियर। पार्सल अधिकारी और लीज होल्डरों की सांठगांठ के चलते डिलेवरी व बिना बुकिंग किए माल पार्सल कार्यालय व उसके बाहर प्लेटफार्म पर रख दिया जाता है। इससे प्लेटफार्म पर आने जाने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है तो वहीं इस सांठगांठ के चलते रेलवे को लाखों रुपए के राजस्व की हानि हो रही है।
पार्सल के कर्मचारियों एवं लीज होल्डरों की सांठगांठ के कारण प्रतिदिन दर्जनों पार्सल बिना बुकिंग के इधर से उधर होते हैं तो वहीं बाहर से आने वाले माल की डिलेवरी तो समय सीमा में कर दी जाती है पर उनका पार्सल वहां से नहीं हटाया जाता। जितने समय माल प्लेटफार्म पर रखा जाता है उतने समय का पैसा सामाने मालिक को हर्जाने के रूप में रेलवे को भुगतान करना होता है पर अधिकारियों की मिली भगत के चलते यह पैसा आपस में बंदरबांट कर लिया जाता और रेलवे को कागजों में तय समय सीमा में डिलेवरी करते हुए माल का उस स्थान से हटाना दर्शा दिया जाता है। जिसके कारण रेलवे हर रोज हजारों रुपए का नुकसान उठाती है और जो पैसा रेलवे के राजस्व में जमा होना चाहिए वह इन लोगों की जेब में चला जाता है। इस पूरे घटनाक्रम में पार्सल अधिकारी से लेकर क्षेत्रीय प्रबंधक व आला अधिकारी तक शामिल बताए गए हैं। जिसके कारण इनके खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई न होकर लीपापोती कर दी जाती है।
एक सप्ताह से पड़ा है माल
सूत्र बताते हैं कि पार्सल गोदाम में पिछले एक सफ्ताह से डिलेवरी हुआ माल पड़ा हुआ है। बताया गया है कि करीब 108 कार्टून जिसमें होजरी व अन्य सामान रखा हुआ है पिछले एक सप्ताह से गोदाम में पड़ा हुआ है। जिसकी तय समय सीमा पर डिलेवरी हो चुकी है पर इसे नहीं हटवाया गया। जब यह संवाददाता इस खबर को कवर करने पहुंचा तो सीपीएस वायएस मीना द्वारा झूमा झटकी करते हुए उसके साथ अभद्रता की गई।
खस-खस के 25 कार्टून खबर प्रकाशित होने पर हटाए
बीते रोज स्वदेश नेें आफत बना बिना बुकिंग का माल नामक शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद प्लेटफार्म नम्बर एक पर पिछले तीन दिन से पड़े माल को सोमवार को हटा दिया गया। वहीं पार्सल गोदाम में पिछले एक सप्ताह से रखे हुए कार्टूनों को भी हटाया जा रहा था।
क्षेत्रीय प्रबंधक कार्यालय में सूचना देने पर भी नहीं हुई कार्रवाई
क्षेत्रीय प्रबंधक अनिल शर्मा को बीते रोज खस-खस के 25 कार्टून डिलेवरी के बाद भी पिछले तीन दिन से रखे होने की सूचना उनके कार्यालय में फोन पर दी गई। लेकिन कार्रवाई नहीं की गई उल्टा जब दूसरे दिन सीपीएस द्वारा संवाददाता के साथ अभद्रता की गई तो कॉमर्शियल विभाग में शिकायत दर्ज न करने मौखिक निर्देश दिए गए।

''आप मुझे लिखित में शिकायत दें, मैं उचित कार्रवाई करुगां और जांच करवाता हूं कि इस तरह से माल क्यों रखा रहता है।ÓÓ
दुर्गेश दुबे
मुख्य वाणिज्य प्रबंधक, झांसी मण्डल रेल

''यदि आपके साथ अभद्रता और धक्का मुक्की की गई है तो आप उसकी लिखित में शिकायत करें, जांच करते हुए दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।ÓÓ
एसके अग्रवाल
मण्डल प्रबंधक, झांसी रेल

Updated : 2015-11-03T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top