Top
Home > Archived > साक्षर बनाने गांवों में शुरू होंगे लोकशिक्षा केन्द्र

साक्षर बनाने गांवों में शुरू होंगे लोकशिक्षा केन्द्र

अशोकननगर | साक्षर भारत योजना के तहत जिले में लोक शिक्षा केन्द्र शुरू होंगे। करीब दो वर्ष पहले इस योजना के तहत गांवों में प्रेरक नियुक्त किए गए थे। मगर यह योजना जिले में अधिकारियों की लापरवाही के कारण शुरू नही हो सकी थी। हाल ही में जिला पंचायत पदाधिकारियों की पहल से योजना की शुरूआत हो रही हैं। साक्षर योजना के तहत वर्ष 2013 में प्रत्येक ग्राम पंचायत में प्रेरक के दो-दो पदों पर नियुक्ति की गई थी। जिनमें 666 महिला एवं पुरुष वर्ग के प्रेरक नियुक्त किए गए थे। जिले में योजना को शुरू कराने के लिए जिला पंचायत की अध्यक्षा श्रीमती बाईसाहब देशराज सिंह यादव द्वारा प्रस्ताव पारित कर अधिकारियों को साक्षर भारत योजना जिले में लागू करने के निर्देश दिये थे। योजना के स्वरूप में जिला पंचायत उपाध्यक्ष रामवली इमरत सिंह ने बताया कि प्रत्येक ग्राम के एक महिला एवं एक पुरूष को रोजगार मिलेगा और प्रत्येक महिला पुरूष को दो हजार रुपये मासिक मानदेय दिया जाएगा। इस संबंध में जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की अध्यक्ष श्रीमती शीतल सत्येन्द्र कलावत ने बताया कि साक्षर भारत योजना जिले में लागू करने के लिये हमने जिला पंचायत की हर बैठक में प्रस्ताव रखा जिससे जिले में यह योजना लागू हो गई है। जिससे जिले में साक्षरता की दर बढ़ेगी और निरक्षर व्यक्ति साक्षर हो सकेंगे। जबकि यह योजना इससे पहले सम्पूर्ण प्रदेश में अशोकनगर को छोड़कर लागू थी। जिले में यह योजना प्रारंभ हो गई है। जिसमें प्रेरकों का प्रशिक्षण जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के पीछे प्रारंभ हो गया है।

Updated : 2015-11-19T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top