Top
Home > Archived > थोक मुद्रास्फीति अक्टूबर में शून्य से 381 प्रतिशत नीचे

थोक मुद्रास्फीति अक्टूबर में शून्य से 381 प्रतिशत नीचे

थोक मुद्रास्फीति अक्टूबर में शून्य से 381 प्रतिशत नीचे
X

नई दिल्ली। देश में दलहन, सब्जी और प्याज के दाम बढ़ने से थोक मुद्रास्फीति (महंगाई दर) थोड़ी बढ़कर शून्य से 3.81 प्रतिशत नीचे आ गयी है, जबकि सितंबर में यह शून्य से 4.54 प्रतिशत नीचे थी। इससे मुद्रा अपस्फीति का दबाव कुछ कम हुआ है।
उल्लेखनीय है कि यह लगातार 12वां महीना है जब थोक मुद्रास्फीति शून्य से नीचे है। यह सिलसिला गत वर्ष नवंबर में शुरू हुआ था जबकि थोक मूल्य वाली मंहगाई दर शून्य से नीचे गयी थी। थोकमूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रा स्फीति पिछले साल अक्टूबर में 1.66 प्रतिशत थी। इस बार अक्टूबर में खाद्य उत्पादों के वर्ग में खास कर दाल-दलहन और प्याज की महंगाई दर काफी उंची रही है। वहीं अक्टूबर में दालों की महंगाई दर 52.98 प्रतिशत रही। प्याज के थोक भाव एक साल पहले से 85.66 प्रतिशत उंचे रहे हैं।
ताजा जारी आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, सब्जियों में मूल्य सालाना आधार पर वृद्धि 2.56 प्रतिशत रही है। पिछले साल इसी महीने में इसके दाम शून्य से 19.37 प्रतिशत कम हुए थे। दलहन और प्याज के अलावा सालाना आधार पर दूध (1.75 प्रतिशत) और गेहूं 4.68 प्रतिशत महंगा हुआ है। आलू के दाम 58.95 प्रतिशत घटे हैं। ईंधन और बिजली खंड में मुद्रास्फीति शून्य से 16.32 प्रतिशत नीचे रही है।
इस बीच अगस्त की थोक मुद्रास्फीति संशोधित कर शून्य से 5.06 प्रतिशत नीचे कर दी गयी है जबकि प्रारंभिक आंकड़ों में इसे शून्य से 4.95 प्रतिशत नीचे बताया गया था। रिजर्व बैंक पहली दिसंबर को होने वाली मौद्रिक नीति की समीक्षा में नीतिगत दर पर कोई फैसला करते हुए थोक मूल्य सूचकांक के आकड़ों को ध्यान में रखेगा।

Updated : 2015-11-16T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top