Latest News
Home > Archived > भारत यात्रा से पहले ओबामा ने की मोदी की जमकर तारीफ

भारत यात्रा से पहले ओबामा ने की मोदी की जमकर तारीफ

भारत यात्रा से पहले ओबामा ने की मोदी की जमकर तारीफ
X

नई दिल्ली । भारत आने से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफों के पुल बांधे हैं। ओबामा ने मोदी के चायवाले से पीएम बनने तक के सफर का जिक्र करते हुए कहा कि यह भारतीयों की इच्छाशक्ति को दर्शाता है। ओबामा ने इसके साथ पाकिस्तान को भी चेताया है। ओबामा ने एक इंटरव्यू में कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारतीय-अमेरिकी साथ हैं और पाकिस्तान को आंतकियों की पनाहगाह नहीं बनने देंगे।
मोदी की तारीफ में ओबामा ने कहा, 'भारत को प्रमुख तौर पर क्या हासिल करना है, इसे लेकर मोदी का विजन एकदम साफ है। मैं उनकी ऊर्जा से खास प्रभावित हूं। मैं इस बात से भी प्रभावित हूं कि वह विकास के रास्ते में रोड़े अटकाने वाले मुद्दों को फौरन दूर करने को तैयार हैं।'
ओबामा ने कहा है कि अमेरिका पर हुए 9/11 हमले और भारत पर हुए 26/11 के हमले के बाद दोनों देश अपनी सुरक्षा के मामले पर साथ खड़े रहे। उन्होंने आगे कहा, 'मैंने पाकिस्तान से यह साफ कहा है कि अमेरिका आतंकवाद से निपटने में उसके साथ है पर वहां आतंकवाद को पनाह देना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और मुंबई हमले के आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए।'

बराक ओबामा और नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में सरकारी वर्दी पहन कर या फर्जी पहचान पत्र के जरिए आतंकी घुसपैठ करने की कोशिश कर सकते हैं। इतना ही नहीं अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर मैसेज देने के लिए आतंकी दिल्ली के किसी होटल की लाबी में विस्फोट या कोई और ड्रामा खेल सकते है। गणतंत्र दिवस परेड सुरक्षा बुक मे खुफिया और सुरक्षा एजेसियों ने ये आशंकाए जताई हैं । दिल्ली में धुंध रहने की दशा में बराक ओबामा का जहाज जयपुर में भी उतारने की व्यवस्था की जायेगी । गणतंत्र दिवस की सुरक्षा के लिए खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों की तैयारियां अपने अंतिम चरण में पहुंच चुकी हैं । सुरक्षा को लेकर एक ब्लूप्रिंट भी जारी कर दिया गया है हालांकि इस ब्लूप्रिंट में 26 जनवरी की सुबह तक फेरबदल होते रहेंगे। गणतंत्र दिवस परेड को लेकर सुरक्षा एजेंसियो ने सुरक्षा बुक भी जारी कर दी है। इस सुरक्षा बुक में कहा गया है कि सुरक्षा में सेंध लगाने के लिए आतंकी सरकारी वर्दी या फर्जी पहचान पत्र का इस्तेमाल कर सकते हैं लिहाजा इस बाबत पूरी तैयारी रखी जाए। सूत्रों के मुताबिक इस आशंका के मद्देनजर पूरे राजपथ की सुरक्षा को तेरह सुरक्षा चक्रों में बांटा गया है और हर चक्र की जिम्मेदारी डीसीपी स्तर के एक अधिकारी को दी गई है । हर चक्र में एक ही यूनिट के सुरक्षाकर्मियों को तैनात किए जाने को कहा गया है जहां प्रत्येक सुरक्षाकर्मी की पहचान दूसरा सुरक्षाकर्मी करेगा और इस पहचान के बाद उन्हें मौके पर ही ड्यूटी पास बना कर दिए जायेंगे जिससे फर्जी पास बनने को लेकर कोई आशंका ना रहे.सूत्रों के मुताबिक राजपथ के चारों तरफ तीन किलोमीटर के इलाके को 24 जनवरी के बाद छावनी के रूप में तब्दील कर दिया जायेगा साथ ही इस पूरे इलाके में अति सवेदंनशील जगहों पर अमेरिकी कंमाडो भी अपने हथियारों के साथ तैनात होंगे । सुरक्षा के लिहाज से पूरे वीवीआईपी रूट पर आम आदमी तो दूर बिना पास वाले किसी सरकारी अधिकारी को भी आने की इजाजत नहीं होगी.वीवीआईपी स्टेज को सुरक्षा चक्र नंबर पांच का दर्जा दिया गया है और स्टेज के चारों तरफ लगभग दो हजार सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जायेगा. इस टीम के पास टेलीस्कोप लैंस को देखने की क्षमता वाले उपकरण भी होंगे इस घेरे मे अमेरिकी कमांडो टीम भी शामिल रहेगी.

एयरफोर्स वनः अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा का 'फ्लाइंग व्हाइट हाउस'

कहीं भी पहुंचने पर अपने बेजोड़ तेज से चौंका देने वाल अमेरिकी राष्ट्रपति का आंशिक रूप से नीला ‘एयरफोर्स वन’ विमान अपने आप में एक स्टार है। खासतौर से तैयार किया गया 70 मीटर लंबा यह चमचमाता विमान लंबे समय से अमेरिकी राष्ट्रपति की शानोशौकत का प्रतीक रहा है । ओबामा के एयर फोर्स वन को 'फ्लाइंग व्हाइट हाउस' भी कहा जाता है । इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब ओबामा उस पर सवार नहीं होते हैं तो भी दुनिया भर में वह मीडिया का ध्यान अपनी ओर खींचता है । तकनीकी रूप से ‘एयरफोर्स वन’ अमेरिकी वायुसेना के विमान में राष्ट्रपति के सवार रहने के दौरान इस्तेमाल में आने वाला सरकारी रेडियो कॉल साइन हैयह कॉल साईन 1953 की उस घटना के बाद तैयार किया गया जब तत्कालीन राष्ट्रपति डी डी आइजनहावर का विमान समान कॉलसाइन का इस्तेमाल करता हुआ कमर्शियल एयरलाइन फ्लाइट के रास्ते पर चला गया था. यह विमान ‘एयरफोर्स वन’ उसमें इस्तेमाल की गई तकनीक के लिहाज से काफी सुरक्षित है । यह तकनीक यहां तक कि उसे परमाणु विस्फोट से पैदा होने वाले इलेक्ट्रोमैग्नेटिक के हस्तक्षेप से भी बचाती है.इनबिल्ट डायरेक्शनल इंफ्रारेड काउंटरमेजर (डीआईआरसीएम) मेथड एयफोर्स वन पर मिसाइल हमले को भी बेसर कर देता है । दरअसल यह मेथड मिसाइल के मार्ग को बाधित कर देती है । 11 सितंबर 2001 में एयरफोर्स वन ने तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के लिए फ्लोरिडा के सारासोटा से एंड्रयूज वायुसेना अड्डे तक की उड़ान के दौरान बंकर का काम किया था । उस दुर्भाग्यपूर्ण दिन पूरे उत्तरी अमेरिका में उड़ान भर रहा यह एकमात्र विमान था । इस विमान से इतना रहस्य जुड़ा है कि हॉलीवुड ने उस पर फिल्म बनाई। वर्ष 1997 में आई एयरफोर्स वन नाम की फिल्म में लोगों के जेहन में यह विमान कल्पना की उड़ान के रूप में आया । इसमें कोई शक नहीं कि एयरफोर्स शानदार है, लेकिन उसके प्रति जिज्ञासा उसके बारे में गोपनीयता की वजह से भी है । विमान में अधिकतर स्थानों पर पहुंच बिल्कुल सीमित है ।

बराक ओबामा रविवार को तीन दिवसीय भारत दौरे पर भारत पहुंचेंगे

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा 25 जनवरी को अपनी पत्नी मिशेल ओबामा के साथ तीन दिवसीय भारत दौरे पर भारत पहुंचेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले साल वाशिंगटन दौरे के बाद इस दौरे को गुरुवार को द्विपक्षीय संबंधों में नई शक्ति का गुणात्मक संचार करने वाला करार दिया गया.विदेश मंत्रालय के मुताबिक, गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में भारत दौरे पर आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा यहां रविवार सुबह 10 बजे पहुंचेंगे. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, 'राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत यात्रा को हम हमारे संबंधों की मजबूती के रूप में देखते हैं.' ओबामा शासनकाल में भारत का दो बार दौरा करने वाले व गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि बनने वाले अमेरिका के पहले राष्ट्रपति होंगे. बिजली मंत्री पीयूष गोयल उनके मिनिस्टर-इन-वेटिंग होंगे.हालांकि यह बात अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाई है कि ओबामा की अगवानी करने प्रधानमंत्री खुद हवाईअड्डा जाएंगे या नहीं. यह सवाल पूछने पर कि क्या राष्ट्रपति की अगवानी के लिए प्रधानमंत्री खुद हवाईअड्डा जाएंगे, प्रवक्ता ने कहा कि प्रोटोकॉल के तहत मिनिस्टर-इन-वेटिंग तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उनकी अगवानी के लिए जा रहे हैं. रविवार सुबह दिल्ली पहुंचने के बाद राष्ट्रपति भवन में एक स्वागत समारोह में शामिल होंगे, जिसके बाद वह भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करने राजघाट जाएंगे.

इसके बाद ओबामा तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय राजधानी स्थित हैदराबाद में एक द्विपक्षीय बैठक में हिस्सा लेंगे. मध्याह्न भोजन के बाद वह एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करेंगे। बैठक के दौरान व्यापार माहौल, व्यापार व निवेश, जलवायु परिवर्तन एवं ऊर्जा, रक्षा व सुरक्षा सहयोग, क्षेत्रीय वैश्विक मुद्दों, अफगानिस्तान तथा आतंकवाद सहित कई मुद्दों पर चर्चा होगी.राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी रविवार शाम बराक ओबामा के सम्मान में एक प्रीतिभोज की मेजबानी करेंगे। 26 जनवरी मतलब सोमवार सुबह वह प्रणब मुखर्जी व मोदी के साथ गणतंत्र दिवस का परेड देखेंगे और इसके बाद वह संबंधित कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे. ओबामा व मोदी शीर्ष कारोबारियों के साथ सोमवार शाम एक गोलमेज सम्मेलन करेंगे, जिसके बाद वे अमेरिकी तथा भारतीय कारोबारी समुदाय (यूएसआईबीसी) को संयुक्त तौर पर संबोधित करेंगे.यात्रा के अंतिम दिन यानी मंगलवार को ओबामा 'भारत एवं अमेरिका: द फ्यूचर वी कैन बिल्ड टुगेदर' विषय पर एक सार्वजनिक भाषण देंगे. वापस अमेरिका जाने के पहले वह ताजमहल का दीदार करने आगरा जाएंगे. ओबामा व उनकी पत्नी मिशेल ने साल 2011 में भारत के पिछले दौरे के दौरान मुंबई व दिल्ली की यात्रा की थी. अकबरुद्दीन ने कहा, 'बीते चार महीनों में हमारे बीच चार बातें हुई हैं. सितंबर 2014 में प्रधानमंत्री के अमेरिका दौरे के बाद राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत दौरे से हमारे संबंधों में नई शक्ति का संचार होगा.'प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय व अमेरिकी वार्ताकार परमाणु दायित्व मुद्दों पर सहयोगी तरीके से काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा, 'वर्तमान में वार्ता लंदन में हो रही है. यह तीसरी बार है, जब संपर्क समूह बीते चार महीनों बाद बैठक कर रहे हैं. इससे पहले बैठक विएना में हुई है.'

आतंकी साजिश

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत दौरे के दौरान पाकिस्तान बड़ी आतंकी साजिश को अंजाम देने की फिराक में है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पाक सेना ने 110 स्पेशल सर्विस ग्रुप के कमांडोज को लाइन ऑफ कंट्रोल और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आतंकियों की मदद के लिए तैनात कर दिया है । लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन के ये आतंकी देश में घुसपैठ की फिराक में है॥ खुफिया जानकारी के बाद सेना और बीएसएफ को अलर्ट कर दिया गया है।

खबर है कि लश्कर, जैश और हिजबुल के 70 से 100 आतंकियों को 4 से 5 समूहों में जीरोलाइन के पास देखा गया है । आतंकियों की ये हरकत सियालकोट और शकरगढ़ में देखी गई है । जिनमें मशरूर बड़ा भाई, अबियाल डोगरा, सुखो चक और चक अमरू के अलावा सांबा सेक्टर के पास सुखमा, डरमान, धंदर समेत रामगढ़ सेक्टर, पुरा सेक्टर और पर्गवाल सेक्टर के पास कई हिस्से शामिल हैं।

मंदिरों को निशाना बनाने की तैयारी
सूत्रों के मुताबिक, पाक सेना की मदद से आतंकी संगठन देश में आतंकी साजिश को अंजाम देने की फिराक में हैं । आतंकियों के निशाने पर बड़े मंदिर या भीड़भाड़ वाली जगह हो सकती हैं । इसके लिए बड़ी संख्या में आत्मघाती हमलावरों के दस्ते भारत में भेजने की तैयारी है। लश्कर, जैश और हिजबुल भारत के चार राज्यों को निशाना बनाने की फिराक में हैं। इन राज्यों में ओडिशा, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश शामिल हैं। इन राज्यों में ऐसी जगहों को निशाना बनाया जा सकता है, जहां तबाही सबसे ज्यादा हो। आतंकी संगठनों के मंसूबे ओबामा दौरे के दौरान 28 जनवरी से पहले आतंकी हमलों को अंजाम देने के हैं ।

सिद्धि विनायक की सुरक्षा बढ़ाई गई
आईबी रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुंबई का सिद्धि विनायक मंदिर आतंकियों के निशाने पर है । यहां बड़ी तादाद में श्रद्धालु भगवान सिद्धि विनायक की पूजा के लिए इकट्ठे होते हैं। मुंबई में हमलों को अंजाम देने के लिए अब्दुल्ला अल अंसारी के साथ नासिर अली, जाबेद इकबाल, मोबिद जेमान और शमशेर नाम के आतंकियों को तैनात किया गया है। ये सभी आतंकी 25 साल से कम उम्र के हैं।

दिल्ली में ओबामा दौरे को लेकर सुरक्षा कड़ी
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की यात्रा को ध्यान में रखते हुए दिल्ली के पास 300 किलोमीटर के दायरे में हवाई उड़ानों पर पाबंदी लगा दी गई है। हालांकि, ये पाबंदी एयरफोर्स, बीएसएस और एआरसी पर लागू नहीं होगी। राज्यपालों और मुख्यमंत्रियों को भी इसमें छूट दी गई है । निजी एयरलाइंस के विमानों की उड़ानों पर इस दौरान पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है। भारतीय विदेश विभाग ने अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे के कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया है । अमेरिकी राष्ट्रपति 25 जनवरी की सुबह 10 बजे दिल्ली पहुंचेंगे।

जमात-उद-दावा की सफाई
पाकिस्तान सरकार की ओर से बैन लगाए जाने के बाद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ने सफाई पेश की है । जमात-उद-दावा का कहना है कि पाक विदेश मंत्रालय ने अमेरिकी दबाव में आकर उसे बदनाम करने वाले बयान दिए हैं, जबकि उसका संगठन पाकिस्तान में केवल समाजसेवा के काम में लगा हुआ है । पाकिस्तान विदेश विभाग के प्रवक्ता ने इससे पहले कहा था कि पाकिस्तान ने हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा के तमाम खाते बंद कर दिए हैं और उस पर पाबंदी लगा दी है, क्योंकि इस संगठन पर अमेरिकी सेंक्शन कमेटी ने पाबंदी लगाई हुई है।

भारत में ओबामा का कार्यक्रम
दिल्ली पहुंचने के बाद 25 जनवरी को बराक ओबामा का सबसे पहले राष्ट्रपति भवन में भव्य स्वागत होगा। इसके बाद वो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए राजघाट जाएंगे । इसके बाद हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता होगी । दोपहर में पीएम मोदी ओबामा को लंच पार्टी देंगे तो शाम को डिनर पर उनकी मुलाकात राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से होगी। गणतंत्र दिवस के मौके पर 26 जनवरी को ओबामा राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे । इसके बाद वह राष्ट्रपति भवन जाएंगे । 26 जनवरी को ही ओबामा कारोबारियों से मुलाकात भी करेंगे । 27 जनवरी को ओबामा चुनिंदा लोगों से मुलाकात करेंगे । उसके बाद वह प्रेम की निशानी माने जाने वाले ताज महल को देखने पत्नी मिशेल के साथ आगरा जाएंगे । दौरे के आखि‍री दिन 27 जनवरी को मोदी-ओबामा की जोड़ी एक बार फिर साथ होगी । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बराक ओबामा के साथ मिलकर रेडियो पर अपनी 'मन की बात' करेंगे ।

भारत दौरे पर ओबामा के साथ नहीं आएंगी उनकी बेटियां 

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की बेटियां मालिया और साशा भारत दौरे पर नहीं आ पाएंगी क्योंकि वे अपने माता पिता के साथ तभी यात्रा करती हैं जब उनके स्कूलों में छुट्टियां होती है।
उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बेन रोड्स ने बताया कि राष्ट्रपति ओबामा और प्रथम महिला मिशेल ओबामा की बेटियां साशा और मालिया उनके साथ यात्रा पर नहीं जा पाएंगी। पिछले साल वे प्रथम महिला के साथ चीन गयी थीं।

Updated : 2015-01-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top