Top
Home > Archived > हत्या के बाद पुलिस छावनी बना जीवाजीगंज

हत्या के बाद पुलिस छावनी बना जीवाजीगंज

नवागत पुलिस अधीक्षक ने बदमाशों की चुनौती स्वीकारी

मुरैना । बुधवार की सुबह कोचिंग के छात्रों के दो गुटों के बीच फायरिंग की घटना में एक निर्दोष मजदूर की हत्या की घटना के बाद नवागत पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने बदमाशों की चुनौती स्वीकार करते हुये स्वयं नगर का निरीक्षण किया साथ ही भारी संख्या में पुलिस बल उपलब्ध कराया है। वहीं जीवाजीगंज को आज पुलिस छावनी बना दिया तथा संदिग्ध व्यक्तियों के साथ ही वाहनों की सघन चैकिंग की गई।
जीवाजीगंज, मिल ऐरिया रोड, गल्र्स कॉलेज रोड एवं अन्य कोचिंग वाले क्षेत्रों में लड़कियों से छेड़छाड़, मारपीट, रंगदारी आदि की घटनाएं आए दिन हो रही हैं। बाइकों पर मुंह बांधकर चार-चार छात्रों का एक साथ बैठकर आना व चाहे जिसके साथ मारपीट करके भाग जाना आम बात हो गई थी, मगर सिटी कोतवाली पुलिस ने इन घटनाओं को कभी गंभीरता से नहीं लिया। सीएसपी, टीआई कभी अपने दफ्तर व कोतवाली से बाहर नहीं निकले। पुलिस स्टॉफ जो इन क्षेत्रों में तैनात किया गया था उसने भी कभी संजीदगी नहीं दिखाई। जिसके परिणामस्वरूप छात्रों के दो गुटों में चले आ रहे मामूली विवाद ने एक दिन पूर्व उग्र रूप धारण कर लिया और अपने ही साथ पढऩे वाले छात्रों की मारपीट करते हुए कट्टे से फायर कर दिया जिसमें ट्रांसपोर्ट पर से पल्लेदारी करने वाले मजदूर बबलेश उर्फ बल्ले धोबी की मौत हो गई। जिस छात्र मोनू छाबई पर हमला किया गया वह भी गंभीर रूप से घायल हो गया, एक राहगीर सोनू श्रीवास को भी कट्टे के छर्रे लगे।
इस घटना को शहर के कोतवाल व नगर पुलिस अधीक्षक ने गंभीरता से लिया हो या नहीं लेकिन पुलिस अधीक्षक श्री भसीन ने इस चुनौती को स्वीकार कर लिया है। घटना के बाद वह स्वयं शहर में निकल पड़े हैं तथा भारी पुलिसबल जीवाजीगंज में तैनात करा दिया है। इसके साथ ही जगह-जगह वाहनों की चैकिंग की जा रही है।
कोचिंग संचालक आज से हड़ताल पर
कोचिंग के अंदर व बाहर छात्रों द्वारा घटित की जाने वाली घटनाओं को रोकने में अक्षम कोचिंग संचालक एवं अशासकीय शिक्षकों ने अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए पुलिस से सुरक्षा की मांग की है। इसके लिये अशा. शिक्षक संघ ने 26 व 27 को दो दिन कोचिंग बंद रखकर हड़ताल का ऐलान कर दिया है।

Updated : 2014-09-26T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top