Home > Archived > राजनैतिक दबाव के चलते पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई

राजनैतिक दबाव के चलते पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई

श्योपुर। वन परिक्षेत्र विजयपुर की बीट खाड़ी की वनभूमि पर दबंगों द्वारा वन अमले पर किए गए हमले के मामले में पुलिस कार्रवाई करने के बजाए राजनैतिक दबाव के चलते मामले को दबाने की कोशिश कर रही है, ये आरोप मध्यप्रदेश कर्मचारी संघ श्योपुर द्वारा जिलाधीश डीएस भदौरिया को सौंपे आवेदन में लगाया है।
कलेक्टर को सौंपे ज्ञापन में मध्यप्रदेश वन कर्मचारी संघ श्योपुर के जिलाध्यक्ष कुलदीप सिंह तोमर ने बताया कि वन विभाग की जमीन पर अनार सिंह पुत्र रामचरण गुर्जर निवासी खाड़ी द्वारा ट्रैक्टर से जुताई की जा रही थी। तभी वन अमले ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई करते हुए ट्रैक्टर को जब्त कर लिया था। जिसका वन अपराध प्रकरण क्रमांक 32758/22 कायम किया गया था। जप्त टै्रक्टर को जब वनकर्मी विजयपुर मुख्यालय लेकर आ रहे थे तभी ग्राम पिपरवास के पास नबाब सिंह गुर्जर एवं अन्य साथी 315 बोर की बंदूृक लेकर आए और रास्ता रोकर वनकर्मियों पर कुल्हाड़ी एव फरसों से हमला कर दिया जिससे इस हमले में डिप्टी रेंजर नजर मोहम्मद गंभीर रूप से घायल हो गए एवं अन्य वन कर्मियों को भी गंभीर चोटें आईं। वनकर्मियों के घायल हो जाने के बाद हमलावर टै्रक्टर एवं दो शासकीय बंदूक को लूटकर ले जाने लग लेकिन एक बंदूक को वनकर्मियों द्वारा छुड़ा लिया गया लेकिन एक बंदूक व टै्रक्टर को ले जाने में वे सफल हो गए। लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस ने धारा 307 कायम नहीं की एवं शासकीय बंदूक टै्रक्टर लूट जाने की धाराओं में भी कायमी नहीं की गई है। इसके पूर्व भी ये भू माफिया कई बार वन कर्मियों पर हमला कर चुके हैं लेकिन इनके विरुद्ध काठोर कार्यवाही नहीं होने के कारण इनके हौसले बुलंद होते जा रहे हैं।
इसलिए हम वनकर्मचारियों की मांग की है कि 20 सितम्बर को घटित हुई घटना में शासकीय बंदूक एवं जप्त टै्रक्टर को लूट करने पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम तथा लूट की धाराओं के तहत मामला कायम किया जाए और मामले की निष्पक्ष जांच के लिए अनुविभागीय अधिकारी विजयपुर के बजाए अन्य थाना पुलिस को मामले को सौंपा जाए। क्योंकि विजयपुर के एक राजनेता के दबाव के चलते पुलिस मामले में कोई कार्यवाही नहीं कर रही है।
...तो करेंगे आंदोलन
मध्यप्रदेश वन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष कुलदीप सिंह तोमर ने बताया कि वन माफिया द्वारा अतिमक्रमण किए गए वनक्षेत्र को टास्क फोर्स के द्वारा बेदखल कराया जाए ताकि वनभूमि की सुरक्षा हो सकें। साथ ही अगर वनकर्मियों पर हुए हमले के मामले में आरोपियों के विरुद्ध उचित कार्यवाही नहीं की गई तो वन कर्मचारी संघ आंदोलन करने पर मजबूर होगा।

कब क्या करेंगे कर्मचारी
- 25 सितंबर को कालीपट्टी बांधकर एक दिवसीय प्रदर्शन
- 26 सितंबर को एक दिवसीय सामूहिक अवकाश
- 27 सितंबर को कलेक्टर कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन
- 01 सितंबर से अनिश्चित कालीन हड़ताल 

Updated : 2014-09-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top