Top
Home > Archived > न पीने को पानी और न चलने को रास्ता

न पीने को पानी और न चलने को रास्ता

भिण्ड । शहर के वार्ड क्र. तीन वाटर वक्र्स से लगा गड्डा मोहल्ला तमाम समस्याओं से ग्रसित है, यहां न तो लोगों के लिए शुद्ध पीने का पानी है और न ही गंदे पानी के निकास के लिए नालियां बनी हैं। यह वार्ड वाटर वक्र्स में होने के बावजूद पेयजल के लिए मोहताज है, यहां का वार्ड पार्षद चुनने के बाद कभी क्षेत्र में रहा नहीं, नतीजा वार्ड की समस्याओं को न.पा. में ठीक से नहीं उठाया।
वार्ड क्र. तीन की ही निवासी महिला सत्संग मण्डल की संयोजिका महिमा चौहान का कहना है कि सामाजिक कार्यकर्ता होने के कारण यह वार्ड से भ्रमण भी करती है, जब वह वार्ड के गड्डा मोहल्ला से पहुंची तो यहां के वाशिंदों की दुर्दशा देखकर हैरान रह गई, यहां न सड़क है और न पानी निकास की व्यवस्था, नगर पालिका की जिम्मेदारी प्रत्येक नागरिक को शुद्ध पेयजल पिलाने की है, लेकिन इस बस्ती में अभी तक पानी के लिए पाइप लाइन तक नहीं बिछी है, कुछ असरदार लोगों ने निजी बोर करा लिए हैं और वे 300 रुपए प्रतिमाह की दर से लोगों को पानी बेच रहे हैं। जो लोग यह राशि चुकाने के लिए सक्षम हैं उनके लिए तो ठीक है, लेकिन गरीबों को पानी के लिए दूर-दूर तक भटकना पड़ता है, बस्ती में सार्वजनिक हैण्डपंप भी नहीं है।
स्ट्रीट लाइट की तो अपेक्षा ही क्या यहां के वाशिंदों को होगी, समूचे मोहल्ले की सड़कें अंधेरे के आगोश में रहती हैं, कई बार आपराधिक घटनाएं भी हो चुकी हैं, इसके बावजूद भी स्ट्रीट लाइट ठीक नहीं कराई गई है। मोहल्ले की कच्ची सड़कें हैं, पानी निकास की व्यवस्था न होने की बजह से सारा गन्दा पानी मोहल्ले में ही जमा होता है जिससे संक्रामक बीमारियां फैल रही हैं।
श्रीमती चौहान की मोहल्ले की समस्याओं को एकत्रित कर मुख्य नगर पालिका अधिकारी व विधायक को अवगत कराकर समस्याओं के निदान का लोगों को आश्वासन भी दिया।


Updated : 2014-09-18T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top