Top
Home > Archived > हत्यारोपी पति को 10 वर्ष का कारावास

हत्यारोपी पति को 10 वर्ष का कारावास

सास, ससुर व अन्य मामला सिद्ध नही होने पर दोषमुक्त

मुरैना/सबलगढ़। सबलगढ़ के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश आरआर बडोदिया ने आंतरी कैलारस में दहेज के लिये शादी के आठ माह बाद हुई श्रीमती ज्योति की हत्या के मामले में आरोपी पति को दहेज प्रताडऩा एवं हत्या का दोषी पाते हुये 10 वर्ष के कारावास तथा 5 हजार रूपये के अर्थदण्ड की सजा सुनाई गई है। मामले में सास, ससुर सहित चार अन्य आरोपियों को दोष सिद्ध नही होने के कारण बरी कर दिया गया। अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक रमेश वर्मा ने पैरवी की।
अभियोजन के अनुसार 13 अक्टूबर 2008 की सुबह श्रीमती ज्योति पत्नि मुकेश निवासी आंतरी की आग से जल जाने के कारण 15 अक्टूबर को उपचार के दौरान अस्पताल में मृत्यु हो गई। मृतिका ज्योति की शादी घटना दिनांक से 8 माह पूर्व 15 फरवरी 2008 को हुई थी। ज्योति का अस्पताल में चिकित्सक द्वारा मृत्यु पूर्व कथन दर्ज किया गया, जिसमें मृतिका ने कहाकि वह घटना के दिन सुबह चिमनी लेकर शौच के लिये जा रही थी तभी उसके हाथ से चिमनी छूट गई और जल गई उसने अपने ससुरालवालों को वयान में निर्दोष बताया। अपर लोक अभियोजक श्री वर्मा ने मृतिका के कथन को ससुराल पक्ष के प्रति भावना में बहकर दिया गया कथन बताते हुये कहाकि मृतिका के शरीर में नीचे पैरो से आग लगने के कोई निशान नही पाये गये उसके शरीर में छाती, पीठ एवं चेहरे पर आग से जलने के गहरे जख्म थे यदि चिमनी नीचे गिरती तो आग पैरों से लगनी चाहिये थी मगर ऐसा नही हुआ उसे जानबूझकर आरोपियों द्वारा जलाया गया।
अपर सत्र न्यायाधीश श्रीबडोदिया ने अभियोजन पक्ष के तर्को के आधार पर मृतिका के पति मुकेश पुत्र लाखन सिंह 23 वर्ष निवासी आंतरी थाना कैलारस के खिलाफ धारा 498ए तथा 304बी के तहत दोष सिद्ध पाया। न्यायाधीश श्री बडोदिया ने मुकेश को धारा 498ए में 3 वर्ष का कारावास तथा एक हजार के अर्थदण्ड, धारा 304बी में 10 वर्ष के कारावास व पांच हजार के अर्थदण्ड की सजा सुनाई। मामले के अन्य आरोपी लाखन सिह पुत्र मनोहरलाल 56 वर्ष (ससुर) ऊषा देवी पत्नि लाखन सिंह 55 वर्ष (सास)रामगोपाल पुत्र मनोहर लाल दोहरे 60 वर्ष ग्राम दबोह जिला भिण्ड, मीना उर्फ माधवी पत्नि अरविन्द दोहरे 24 वर्ष ग्राम लहारहवेली तहसील भाण्डेर जिला दतिया को घटना के दिन मौके पर उपस्थित होना सिद्ध नही पाते हुये न्यायालय ने उन्हे बरी कर दिया। 

Updated : 2014-09-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top