Top
Home > Archived > हत्या कर फांसी पर लटकाया चौकीदार का शव!

हत्या कर फांसी पर लटकाया चौकीदार का शव!

ग्वालियर । साड़ी के गोदाम के चौकीदार की शुक्रवार की तड़के संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसका शव गोदाम के अंदर फांसी पर लटका मिला है। मृतक के हाथ और पैर साड़ी से बंधे मिले हैं। गोदाम के अंदर एक अतिरिक्त चप्पल मिली है तथा सीसीटीवी कैमरे पर टेप चिपका मिला है इस कारण मामले में हत्या की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार नाका चन्द्रवदनी पर रहने वाला 48 वर्षीय नरेश कुशवाह भाऊ का बाजार स्थित आवतराम साड़ी सेंटर के गोदाम में चौकीदारी करता था। गुरूवार की सुबह 7 बजे वह अपने घर से ड्यूटी के लिए निकला था। इसके बाद रात में उसने अपने घर फोन पर घर नहीं आने की बात बताई। रात में ही कुछ देर बाद पुन: अपने बड़े बेटे रामेन्द्र को फोन पर बताया कि रात में वह अपनी मां को यहां भेज दे। कुछ काम है सुबह दोनों घर आ जाएंगे। रात में उसकी पत्नी तो गोदाम नहीं पहुंची लेकिन सुबह उसकी मौत की खबर पहुंच गई। नरेश की मौत का पता सबसे पहले सुबह करीब 8 बजे सफाई वाले लड़के ने पड़ौसियों और पुलिस को दी। पड़ौसियों ने ही गोदाम मालिक संजय भवानी और मृतक के परिजनों को सूचना दी। पुलिस जिस समय गोदाम में पहुंची नरेश फांसी पर लटका था। उसके पास एक स्टूल रखा था। उसके दोनों पैर और दोनों हाथ एक पुरानी साड़ी के कपड़े से बंधे मिले। इसी साड़ी के एक हिस्से से फांसी का फंदा तैयार किया गया था। प्रथम दृष्टया पुलिस ने इस मामले को हत्या का माना लेकिन कुछ देर बाद गोदाम में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज को देखा तो पता चला कि गोदाम में उसके अलावा कोई गया ही नहीं है। वीडियो फुटेज के अनुसार सुबह छह बजे तक नरेश जिंदा था। इसके बाद वह सोकर उठा और गोदाम के अंदर जाता दिखाई दिया है। उसके गोदाम के अंदर घुसते ही एक हाथ सीसीटीवी कैमरे पर आया जिससे कैमरे पर टेप लगा दिया गया। इसके बाद इस कैमरे का वीडियो रिकार्डिंग बंद हो गई जबकि बाहर की ओर लगे शेष दो कैमरों की रिकार्डिंग में कोई भी दिखाई नहीं पड़ा है।

सुरक्षा एजेंसी का गार्ड था मृतक
मृतक नरेश कुशवाह सिकरवार सुरक्षा एजेंसी का गार्ड था जो इस गोदाम में पिछले तीन सालों से नौकरी कर रहा था। सामान्यत: उसकी दिन की ड्यूटी थी लेकिन चूंकि वह पिछले दो दिन से छुट्टी पर था तथा दिन में रात्रि वाला गार्ड रुका था। इस कारण दो दिन तक उसने रात में रुकने का समझौता दूसरे गार्ड से कर लिया था। एजेंसी उसे साढ़े तीन हजार रुपये प्रतिमाह वेतन देती थी।

गोदाम में मिली अतिरिक्त चप्पल
गोदाम में मृतक के जूतों के अलावा पुलिस को पुरुष की एक अतिरिक्त चप्पल मिली है। गोदाम मालिक के अनुसार वहां इस तरह की चप्पल पहले से मौजूद नहीं थी। अब पुलिस पूछताछ एवं पुराने वीडियो फुटेज के आधार पर पड़ताल कर रही है। गोदाम मालिक ने सभी वीडियो फुटेज पुलिस को सौंप दिए हैं।

दिसम्बर में है बेटी की शादी
मृतक नरेश के दो बेटे और एक बेटी है। एक बेटा बड़ा है तथा उससे छोटी बेटी है और एक छोटा बेटा है। बेटे दोनों ही अविवाहित हैं जबकि बेटी की दिसम्बर 2014 में शादी तय की गई है। परिजन जहां नरेश की हत्या की आशंका व्यक्त कर रहे हैं वहीं पुलिस वीडियो फुटेज के आधार पर इसे आत्महत्या का मामला मान रही है। 

Updated : 2014-08-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top