Home > Archived > पांच घंटे खड़ा रखा, फिर भेजा पांच दिन की पुलिस रिमांड पर

पांच घंटे खड़ा रखा, फिर भेजा पांच दिन की पुलिस रिमांड पर

पांच घंटे खड़ा रखा, फिर भेजा पांच दिन की पुलिस रिमांड पर
X

15 हजार के इनामी चिकित्सा छात्र राहुल यादव ने न्यायालय में किया समर्पण


ग्वालियर।
पीएमटी फर्जीवाड़े के मुख्य सरगना दीपक यादव के भाई डॉ. राहुल यादव ने शुक्रवार को प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी महेश झा के न्यायालय में समर्पण कर दिया। भिंड में सरकारी डॉक्टर व पीएचसी का प्रभारी रहा राहुल लंबे समय से फरार था। दोपहर साढ़े बारह बजे आत्मसमर्पण करने पहुंचे राहुल को न्यायालय में लगभग पांच घंटे खड़ा रखा गया। शाम को न्यायालय ने आरोपी को 30 जुलाई तक पुलिस अभिरक्षा में भेजने का आदेश दिया।
आरोपी को पुलिस अभिरक्षा में भेजने का विरोध करते हुए डॉ. यादव के अभिभाषक ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि आरोपी को दिल का दौरा पड़ चुका है ऐसे में उसे पुलिस अभिरक्षा में भेजने की जगह न्यायिक अभिरक्षा में भेजा जाए। इस पर अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी ने तर्क दिया कि फर्जीवाड़े में संलिप्तता सामने आने के बाद से ही आरोपी फरार हो गया। जिसके चलते पुलिस को इसके ऊपर इनाम घोषित करना पड़ा। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में यह सामने आया है कि इंटरमीडिएट उत्तीर्ण होने के बावजूद दीपक यादव ने इसका प्रवेश फर्जी तरीके से कराया था। ऐसे में पुलिस को आरोपी से कई सवालों के जवाब उगलवाने हैं। दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद न्यायालय ने उसे 30 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। उधर, एक अन्य अभियुक्त राहुल जैन की पुलिस हिरासत की अवधि न्यायालय ने 27 जुलाई तक बढ़ा दी। उसकी हिरासत की अवधि शुक्रवार को समाप्त हो रही थी।

Updated : 2014-07-26T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top