Top
Home > Archived > सौर ऊर्जा के क्षेत्र में मप्र बनेगा आदर्श : शुक्ला

सौर ऊर्जा के क्षेत्र में मप्र बनेगा आदर्श : शुक्ला

सौर ऊर्जा के क्षेत्र में मप्र बनेगा आदर्श : शुक्ला

भोपाल। मप्र सरकार की कारगर और उल्लेखनीय नीतियों के फलस्वरूप बिजली उत्पादन तेजी से बढ़ा है। दिसंबर 2003 में प्रदेश में बिजली की उपलब्धता 4500 मेगावाट थी। जबकि अब बिजली की उपलब्धता 12656 मेगावाट हो गई है। ऊर्जा के क्षेत्र में मप्र आदर्श राज्य बन है, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बिजली की दशा को सुधारनें के लिए भागीरथी प्रयास किये। यह बात ऊर्जा मंत्री राजेन्द्र शुक्ला ने विधानसभा में अपने विभाग की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान कही।
श्री शुक्ला ने कहा कि पिछले 10 वर्ष में बिजली उत्पादन में 8126 मेगावाट की हुई उपलब्धि के पीछे मुख्यमंत्री की दृढ़ इच्छाशक्ति प्रमुख कारण रही। दस साल पहले जहां भीषण विद्युत संकट था और 12 घंटे आपूर्ति के लिए दूसरे राज्यों से बिजली लेना पड़ती थी अब मप्र में न सिर्फ पर्याप्त विद्युत है बल्कि दूसरे राज्यों को बिजली दी जा रही है मप्र में आगामी 25 वर्ष को देखते हुए पॉवर प्लांट लगाये गये है। मौजूदा स्थिति में प्रदेश में बिजली की अधिकता की स्थिति 2020 तक बनी रहेगी। फ ीडर सेपरेशन और बिगड़े ट्रांसफार्मर को सुधारने का कार्य व्यापक पैमाने पर किया जा रहा है।
श्री शुक्ला ने कहा कि फ ीडर सेपरेशन के लिए 6 हजार करोड़ का प्रावधान रखा गया है। वर्ष 2003-04 के पूर्व 50 वर्ष में जितना नेटवर्क बिजली के क्षेत्र में स्थापित हुआ था, उतना पिछले 7-8 वर्षों में हो चुका है। सुनिश्चित रणनीति के तहत विद्युत वितरण के क्षेत्र में आने वाली कमियों को भी दूर किया जायेगा। ऊर्जा विभाग में वर्ष 1983 के बाद उतनी भर्ती नहीं हुई जितनी पिछले 3-4 साल के दौरान की गई। नवीन और नवकरणीय ऊर्जा की जानकारी देते हुए मंत्री श्री शुक्ला ने बताया कि लघु जल विद्युत, पवन, बॉयोमास और सौर ऊर्जा से वर्तमान में 893 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है।
एशिया में सोलर एनर्जी का सबसे बड़़ा प्लांट मप्र के नीमच जिले में स्थापित किया गया है। इस प्लांट से 130 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। अपरंपरागत ऊर्जा के क्षेत्र में जो परियोजनाएं भाजपा सरकार ने शुरू की थी उसमें इस साल 1144 मेगावाट की और वृद्धि होगी।


हतप्रभ हुआ जर्मनी
ऊर्जा मंत्री ने बताया कि बर्लिन में हुए अंतर्राष्ट्रीय सौर ऊर्जा सम्मेलन में जर्मनी सहित दूसरे देश के प्रतिनिधियों को जब यह पता चला कि मप्र में 130 मेगावॉट का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाया गया है तो वे हतप्रभ रह गए। वे छोटे-छोटे संयंत्र लगाते हैं। प्रदेश की तरक्की से दंग लोगों में शुक्ला से हाथ मिलाने और उन्हें बधाई देने की होड़ लग गई थी। यहां उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश सरकार रीवा में बहुत जल्द 700 मेगावॉट सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने जा रहा है।

पेट्रो लाइसेंस देने की योजना
खनिज मंत्री शुक्ला ने कहा कि खनिज राजस्व में भी प्रदेश ने अच्छी तरक्की की है। खनिज राजस्व 600 गुना बढ़ गया है। प्रदेश में कोल बेड मिथेन और तेल व गैस का भंडार से राजस्व आय 6 हजार करोड़ होगी। उन्होंने खनन के लिए रियो टिंटो कंपनी के आने पर विवाद को गलत बताते हुए कहा कि हम प्रदेश में डायमंड पार्क खोलेंगे ताकि यहां से निकले हीरो को यही तराशा जाए। शुक्ला ने बताया कि प्राकृतिक गैस की संभावना को देखते हुए पेट्रोलियम लाइसेंस देने की योजना है।

प्रचार में सफल जनसंपर्क
जनसंपर्क विभाग की बजट मांगों पर बोलते हुए शुक्ला ने कहा कि विभाग ने शासन की योजनाओं के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विभाग इस कार्य में सफल रहा है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ पत्रकारों को पेंशन देने के साथ ही अब सरकार पत्रकारों का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा और स्वास्थ्य बीमा करवाएगी।

Updated : 2014-07-19T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top