Top
Home > Archived > हरिजन छात्रावास में प्रवेश के लिए भटक रहे हैं छात्र

हरिजन छात्रावास में प्रवेश के लिए भटक रहे हैं छात्र

कोलारस। कोलारस नगर सहित ग्रामीण अंचलों लुकवासा सेसई सड़क तेंदुआ में संचालित हरिजन छात्रावासों में प्रवेश के लिये हरिजन छात्रों से लेकर छात्रायें प्रवेश पाने के लिये भटक रहे हैं। अनेक छात्रावासों में स्थिति विपरीत है जिन अधीक्षिका व अधीक्षकों पर छात्रावास की जिम्मेदारी है वे अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे हैं। छात्रावास न तो समय पर खुल रहे हैं और न ही जिम्मेदार अधिकारी छात्रावासों में बैठ रहे हैं जिसके चलते छात्र-छात्राएं प्रवेश के लिए चक्कर लगा रहे हैं।
कोलारस नगर में ही जगतपुर स्थित हरिजन बालक छात्रावास सहित कन्या छात्रावास में अव्यवस्थाएं काफी समय से हावी हैं। जिन लोगों पर इन छात्रावासों की जिम्मेदारी है वे अपनी मनमानी कर छात्र-छात्राओं को प्रवेश से वंचित कर रहे हैं। आए दिन छात्र-छात्राएं शिकायतें लेकर अधिकारियों के पास आते हैं परन्तु अधिकारियों द्वारा कार्यवाही करने के बजाय मामला निपटा दिया जाता है। वहीं दूसरी ओर शासन सहित हरिजन कल्याण विभाग द्वारा भारी-भरकम राशि बजट के रूप में इन छात्रावासों को प्रतिवर्ष दी जा रही है। इसके बावजूद यदि छात्रावासों में निरीक्षण किया जाए तो वहां अव्यवस्थाएं मिलेंगी। बजट की बात करें तो शासन का पूरा बजट ठिकाने जरूर अधीक्षकों द्वारा लगा दिया जाता है और फर्जी तरीके से कागजों में हेराफेरी कर छात्रावास संचालित किए जा रहे हैं।
कोलारस स्थित पुराना थाने के पास स्थित हरिजन कन्या छात्रावास में तो अधीक्षिका कई वर्षों से पदस्थ हैं जिसकी मनमानी व लापरवाही के चलते कई हरिजन छात्राएं को प्रवेश लेने से ही मना कर देती हैं। यही हाल जगतपुर में कॉलेज रोड स्थित हरिजन बालक छात्रावास का है। यहां पदस्थ अधीक्षक कभी भी समय पर छात्रावास में नहीं आते, महीने में एक बार ही आकर पूरा काम निपटा लेते हैं जिसके चलते यहां आने वाले हरिजन छात्र जो ग्रामीण अंचलों से पढऩे इन छात्रावासों में निवास करते हैं परन्तु इन्हें शासन की अनेक योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जिसके चलते अनेक हरिजन छात्र-छात्राएं नगर में किराए के कमरे लेकर पढ़ाई जारी रखे हुए हैं। यदि इन छात्रावासों की बारीकी से जांच की जाए तो लाखों का घोटाला सामने आ सकता है।


Updated : 2014-07-18T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top