Latest News
Home > Archived > भारी पड़ी एसपी वर्मा को पत्नी से बेवफाई

भारी पड़ी एसपी वर्मा को पत्नी से बेवफाई

ग्वालियर। ग्वालियर पुलिस अधीक्षक प्रमोद वर्मा को अपनी पत्नी से बेवफाई किया जाना भारी पड़ा है। पूरे प्रदेश में बदनामी के साथ-साथ उन्हें ग्वालियर पुलिस अधीक्षक का पद भी छोड़कर रातों-रात गायब होना पड़ा। विधानसभा में हंगामे एवं विरोध प्रदर्शनों के बाद शासन ने श्री वर्मा को पुलिस मुख्यालय भोपाल में सहायक पुलिस महानिरीक्षक के पद पर पदस्थ किया है। वहीं लोकसभा चुनावों से ठीक पहले स्थानांतरित हुए आईपीएस संतोष कुमार सिंह को उप पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर रेंज बनाया गया है। सूत्र बताते हैं कि पुलिस अधीक्षक की स्थाई पदस्थापना नहीं होने तक संतोष कुमार सिंह ही ग्वालियर में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के रूप में कार्य करेंगे।
गृह विभाग म.प्र. शासन की अवर सचिव कमला उपाध्याय द्वारा हस्ताक्षरित गुरूवार की शाम जारी स्थानांतरण आदेश में तीन पुलिस अधिकारियों के आदेश जारी किए गए हैं। इनमें संतोष कुमार सिंह के स्थान पर प्रमोद वर्मा को भोपाल भेजा गया है। वहीं संतोष कुमार सिंह को ग्वालियर उप पुलिस महानिरीक्षक बनाया गया है। एसपी ग्वालियर के रूप में पदस्थ प्रमोद वर्मा के स्थानांतरण के साथ ही ग्वालियर में स्थाई पुलिस अधीक्षक की सीट खाली हो गई है। बुधवार को ग्वालियर पुलिस अधीक्षक प्रमोद वर्मा की पत्नी श्रीमती निधि वर्मा द्वारा पुलिस महानिदेशक को लिखे पत्रों के मीडिया में उजागर होते ही श्री वर्मा गुरूवार को अचानक अज्ञातवास में चले गए। श्री वर्मा ने ग्वालियर पुलिस अधीक्षक का चार्ज अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर पश्चिम मोहम्मद यूसुफ कुरैशी को सौंपा है।

संतोष सिंह ने नहीं छोड़ा बंगला
लोकसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा की गई शिकायत को संज्ञान लेते हुए भारत निर्वाचन आयोग ने ग्वालियर पुलिस अधीक्षक के रूप में पदस्थ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह के स्थानांतरण के आदेश म.प्र. शासन को दिए थे। इसके बाद ही उन्हें भोपाल पुलिस मुख्यालय में डीआईजी के पद पर पदस्थ किया गया था। राजनीति षड़्यंत्र के तहत कांग्रेसियों ने श्री सिंह का स्थानांतरण तो करा दिया था लेकिन उन्होंने अब तक ग्वालियर में अपना शासकीय बंगला खाली नहीं किया है। ग्वालियर में इस बात को लेकर उनके स्थानांतरण के बाद से ही चर्चा है कि संतोष कुमार सिंह की पुन: पदस्थापना ग्वालियर में होगी।

एडीजी सुषमा सिंह ने शुरू की जांच
ग्वालियर के निवर्तमान पुलिस अधीक्षक प्रमोद वर्मा के प्रेम प्रसंग की शिकायत की जांच के आदेश पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे ने एडीजी महिला सेल अरुणा मोहन राव को दिए थे। चूंकि वे अभी ट्रेनिंग में हैं इस कारण जांच एडीजी (यातायात) सुषमा सिंह ने शुरू कर दी है। जांच के प्रथम चरण में वे दोनों पक्षों से पूछताछ करेंगी। इसके बाद दोनों के आरोपों की पड़ताल होगी। आरोपी महिला डीएसपी से भी इसमें पूछताछ की जाएगी। इस दौरान संतोष कुमार सिंह और महिला डीएसपी के फोन कॉल्स के डिटेल सहित अन्य आरोपों की पड़ताल भी जांच के दौरान की जाएगी।

ग्वालियर से संबंधित है महिला डीएसपी
पुलिस अधीक्षक प्रमोद वर्मा के प्रेम प्रसंग की बात जिस महिला डीएसपी के साथ जोड़ी जा रही है। उसका संबंध ग्वालियर से भी है। सूत्र बताते हैं कि इस महिला डीएसपी के पति मूलत: ग्वालियर के रहने वाले हैं और वर्तमान में भोपाल में आबकारी विभाग में पदस्थ हैं। वे पूर्व में रतलाम में भी पदस्थ रह चुके हैं।

जो बीबी-बच्चों का नहीं हुआ वह मेरा क्या होगा?
ग्वालियर एसपी प्रमोद वर्मा के प्रेम प्रसंग का राज उजागर होते ही उनके दोस्त और दुश्मन दोनों ही सक्रिय हो गए हैं। उनके दुश्मन जहां मुखर होकर प्रमोद वर्मा की करतूतों को चटखारे लेकर सुना रहे हैं वहीं उनके दोस्त दबी जवान उन्हें बार-बार समझाने की बात कह रहे हैं। ग्वालियर रेंज में श्योपुर पुलिस अधीक्षक के रूप में पदस्थ रह चुके श्री वर्मा के एक मित्र बताते हैं कि मैंने उनसे इसी कारण संबंध तोड़ लिए थे कि जो अपनी पत्नी व बच्चों का नहीं हुआ वह मेरा क्या होगा? मित्रों का कहना है कि प्रमोद को बहुत समझाया लेकिन वह नहीं माने, और अब परिणाम सामने है। वही हुआ जिसकी आशंका थी। 

Updated : 2014-07-18T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top