Home > Archived > यशवंत सिन्हा ने नहीं ली जमानत, हिरासत 28 जून तक बढ़ी

यशवंत सिन्हा ने नहीं ली जमानत, हिरासत 28 जून तक बढ़ी

यशवंत सिन्हा ने नहीं ली जमानत, हिरासत 28 जून तक बढ़ी
X

रांची | झारखंड में बिजली की समस्या के खिलाफ आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किए गए वरिष्ठ भाजपा नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर जमानत पत्र भरने से मना कर दिया जिसके बाद अदालत ने उनकी न्यायिक हिरासत की अवधि 28 जून तक बढ़ा दी।
वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी कल नयी दिल्ली से यहां आएंगे और सिन्हा को जमानत लेकर जेल से बाहर आने के लिए मनाएंगे। हजारीबाग में समर्थकों के साथ विरोध प्रदर्शन करने, झारखंड विद्युत बोर्ड के महाप्रबंधक धनेश झा का घेराव करने एवं उन्हें रस्सियों से बांधने के आरोप में 3 जून से न्यायिक हिरासत में जेल में बंद सिन्हा को उनके 57 समर्थकों के साथ आज हजारीबाग के न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया गया।
सिन्हा ने एक बार फिर जमानत पत्र भरने से मना कर दिया जिसके बाद समर्थकों समेत उन्हें 28 जून तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।
भाजपा प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा ने बताया कि आडवाणी यशवंत सिन्हा को जमानत पर जेल से बाहर आने के लिए मनाने कल आ रहे हैं। वह जेल में यशवंत सिन्हा से मुलाकात करेंगे।
इससे पूर्व, 12 जून को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के निर्देश पर पार्टी के महासचिव राजीव प्रताप रूड़ी और प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन सिन्हा को मनाने हजारीबाग पहुंचे थे। रूडी ने कहा था कि हजारीबाग में बिजली की समस्या को लेकर सिन्हा द्वारा किए गए आंदोलन से आम जनता की समस्याएं उजागर हुई हैं और पूरी पार्टी सिन्हा के साथ है। इस आंदोलन के सिलसिले में 4 महिलाओं समेत 58 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
यशवंत सिन्हा ने हजारीबाग और झारखंड के अन्य इलाकों में बिजली की 10 घंटे कटौती के खिलाफ न सिर्फ आंदोलन किया बल्कि 3 जून को समर्थकों के साथ गिरफ्तार किए जाने के बाद जमानत लेने से इनकार भी कर दिया था। न्यायिक मजिस्ट्रेट आरबी पाल ने उन सभी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था।
बिजली की अव्यवस्था के खिलाफ आंदोलनरत महिला भाजपा कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर सिन्हा के निर्देश पर झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड के महाप्रबंधक धनेश झा का घेराव कर उन्हें रस्सी से बांध दिया था। इसके बाद सिन्हा और उनके समर्थकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी। जमानत न लेने पर कानूनी कार्रवाई के तहत उन्हें जेल भेज दिया गया था।
यशवंत सिन्हा के पुत्र और हजारीबाग के सांसद जयंत सिन्हा के नेतृत्व में भाजपा राज्य में विद्युत अव्यवस्था और सिन्हा तथा उनके समर्थकों की गिरफ्तारी के विरोध में आज भी हजारीबाग में उपायुक्त कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर रही है।

Updated : 16 Jun 2014 12:00 AM GMT
Next Story
Top